हाइवे पर लकड़ी, पत्थर और कांटे डालकर कतार बनाकर बैठे लोग, आखिर क्या है मामला ?

जयपुर-जबलपुर हाइवे पर ग्रामीणों ने लगाया जाम...कब्जा हटाने पहुंची टीम का विरोध..ग्रामीण का आरोप- कच्चे मकान तोड़े, पक्के नहीं...

By: Shailendra Sharma

Published: 03 Jul 2021, 07:09 PM IST

राजगढ़/ब्यावरा. जयपुर-जबलपुर नेशनल हाइवे पर खुरी गांव के पास शनिवार दोपहर ग्रामीणों ने चक्काजाम कर दिया। झोपड़ियां हटा देने, तोड़ने के विरोध में रोड पर आए ग्रामीणों ने जमकर नारेबाजी की। रोड पर ही कांटे, पत्थर, लकड़ियां जमा कर महिला-पुरुष कतार बनाकर बैठ गए और विरोध किया। इसके बाद मौके पर तहसीलदार और देहात पुलिस पहुंचे और करीब आधे घंटे बाद जाम खुलावाया । जाम खुलवाने के घंटेभर बाद तक तहसीलदार ग्रामीणों से बैठकर बातचीत करते रहे और उन्हें समझाइश दी।

देखें वीडियो-

पक्के निर्माण कार्य छोड़े तो भड़के लोग
चरनोई की सरकारी जमीन पर कर किए गए अतिक्रमण को हटाने के लिए नायब तहसीलदार और पटवारी की टीम गांव में पहुंची थी। वे सरकारी जमीन नाप रहे थे, वहीं पर कुछ लोगों ने कब्जा कर झोपड़ियां बना ली थीं जिन्हें प्रशासनिक अमले ने तोड़ दिया। कुछ पक्के निर्माण कार्य भी थे जिन्हें बारिश का हवाला देकर प्रशासन ने छोड़ दिया, इसी का विरोध ग्रामीणों ने किया और चक्काजाम कर दिया। जिससे करीब आधे घंटे तक हाइवे पर वाहनों के पहिये थमे रहे और दोनों तरफ वाहनों की लंबी लाइनें लग गईं।

ये भी पढ़ें- नाबालिग कई बार हुई हैवानियत का शिकार, प्रेग्नेंट होने पर सामने आई वारदात

highway_jaam_2.jpg

ग्रामीणों ने जमकर सुनाई खरी-खोटी
चक्काजाम कर रहे ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि हमें तो हटाने आ गए लेकिन वहां पहले से ही सरकारी जमीन पर प्रभावी और राजनीतिक संरक्षण प्राप्त ताकतवर लोगों ने पक्के निर्माणकर रखे हैं उन्हें कोई नहीं हटाता। हमारी झोपडिय़ां आसानी से हटा रहे, हम गरीब हैं, हमारी ओर बोलने वाला कोई नहीं है तो हमें परेशान करने आ गए। काफी देर तक वे रोड पर ही हंगामा करते रहे, बाद में नायब तहसीलादर एस. एस. अजनारे ने उन्हें समझाया। इस दौरान ग्रामीणों ने सरपंच-सचिव को भी आड़े हाथों लेते हुए आरोप लगाया कि हमारा कोई काम नहीं किया जाता। सरपंच, सचिव हमारी नहीं सुनते, कोई काम नहीं करते। हम जरूरतमंद हैं, बेघर हैं बावजूद इसके आज दिनांक तक हमें प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री आवास की सुविधा नहीं मिल पाई। न ही आज तक किसी अन्य योजना का लाभ हमें मिल पाया है। इस पर तहसीलदार ने उन्हें आश्वस्त किया कि सीईओ से बात कर समाधान करवाएंगे।

देखें वीडियो-

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned