20 साल की परम्परा बरकरार, पीपरखार कला के पांच पंच निर्विरोध निर्वाचित ...

ग्रामीणों ने पेश की आपसी मेलजोल व एकता की मिसाल

By: Nitin Dongre

Published: 06 Jan 2020, 07:38 AM IST

डोंगरगढ़. आदिवासी अंचल बोरतलाव क्षेत्र के ग्राम पंचायत पीपरखारकला के ग्रामीणों ने आपसी एकता की मिसाल पेश करते हुए पुन: अपने ग्राम के पांच वार्डों के पंचों सहित उप सरपंच निर्विरोध चुन लिया गया है। हालांकि ग्राम पंचायत पीपरखारकला में दो गांव खमपुरा व कुर्सीपार आश्रित गांव भी शामिल है। इस वजह से सरपंच व उप सरपंच पद के लिए उम्मीदवारों के बीच चुनावी जंग होता है। ग्रामीणों की माने तो पीपरखारकला में पंचों को निर्विरोध चुनने की परम्मरा 20 सालों से चल रही है।

ग्राम पंचायत में कुल 14 पंच है। पीपरखारकला में पांच पंच आते हैं, जो निर्विरोध चुने जाते हैं। इस वर्ष वार्ड 1 से जगोता बाई वर्मा, वार्ड 2 से इंदिराबाई मंडावी, वार्ड 3 से गोविंद वर्मा, वार्ड 4 से मोहन वर्मा तथा वार्ड 5 से पूर्णिमा वर्मा निर्विरोध पंच चुनी गई हैं। गांव में हर पंच वर्षीय इस तरह निर्विरोध चुनाव के लिए संगठन सचिव राजू पगरवार की भूमिका अहम रहती है।

2015 में ऐसी थी स्थिति

2015 के चुनाव में वार्ड १ से निर्मलाबाई वर्मा, वार्ड २ से खेमलाल सलामे, वार्ड 3 से हसन वर्मा, वार्ड 4 से जोहन वर्मा व वार्ड 5 से मानबाई वर्मा का निर्वाचन भी निर्विरोध हुआ था। वार्ड चार के पंच को पूर्व में उपसरपंच चुना गया था। इस प्रकार गांव में आपसी सामंजस्य और एकता की मिसाल का वातावरण इन 5 वार्डों के 550 ग्रामीण लगातार करते चले आ रहे हैं। ग्रामीणों ने आपसी सामंजस्य का मिसाल पेश कर अन्य पंचायतों के लिए संदेश दिया है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned