30 बिस्तर अस्पताल में रात को गायब रहते हैं स्टॉफ, दुर्घटना होने पर नहीं मिलता इलाज ...

सोमनी सामूदायिक स्वास्थ्य केंद्र का मामला

By: Nitin Dongre

Published: 18 Feb 2020, 09:58 AM IST

राजनांदगांव. राज्य शासन द्वारा क्षेत्र के रहवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने व किसी दुर्घटना में तत्काल उपाचर की व्यवस्था कराने सोमनी में 30 बिस्तर अस्पताल की सुविधा दी गई है, लेकिन इस अस्पताल में रात के समय स्टॉफ गायब रहते हैं। रात के समय एक्पर्ट डॉक्टर नहीं होने से घटना-दुर्घटना में घायल लोगों को इलाज नहीं मिलता। पीडि़तों को मजबूर मेडिकल कॉलेज अस्पताल आना पड़ता है। अस्पताल की अवयवस्था को लेकर क्षेत्र के लोगों में आक्रोश पनप रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार रविवार रात को सोमनी निवासी सुरेन्द्र गायकवाड़ आवास पारा में बाइक से गिर कर गंभीर रुप से घायल हो गया। आसपास मौजूद लोग व उसके दोस्तों ने सुरेन्द्र को इलाज के लिए सोमनी अस्पताल लेकर पहुंचे। इस दौरान अस्पताल में जिम्मेदार एक भी डॉक्टर व स्टॉफ मौजूद नहीं थे। मरीज सुरेन्द्र काफी देर तक दर्द से कहराते रहा। सुरेन्द्र के दोस्त डॉक्टर का इंतजार करते रहे, लेकिन इलाज के लिए कोई नहीं पहुंचे। इस दौरान सुरेन्द्र को इलाज के लिए उसके दोस्त मेडिकल कॉलेज अस्पताल लेकर पहुंचे और उसे भर्ती कराए।

रात में नहीं पीडि़तों को सेवा

सुरेन्द्र को अस्पताल लेकर पहुंचे उसके दोस्त देव प्रकाश यादव, नितेश अग्रवाल ने बताया कि दुर्घटना में गंभीर रुप से घायल सुरेन्द्र को सोमनी हॉस्पिटल प्राथमिक उपचार के लिए ले गए थे, लेकिन हॉस्पिटल में सन्नाटा पसरा था एक भी स्टाफ हॉस्पिटल में नही थे। मरीज को जिला चिकित्सालय राजनादगांव में भर्ती कराया गया। बताया जा रहा है कि सोमनी अस्पताल में मरीजो को रात्रि कालीन सेवा नहीं मिलता।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned