भंडारपुर बैंक के 815 किसानों को अब तक नहीं मिली है फसल बीमा की राशि, चक्कर काटने मजबूर हैं ग्रामीण ...

बीमा कंपनी ने दस माह बाद दस्तावेज नहीं होने के चलते प्रीमियम राशि लौटाई

By: Nitin Dongre

Published: 11 Jul 2020, 07:37 AM IST

खैरागढ़. पंजाब नेशनल बैंक भंडारपुर द्वारा पिछले साल किसानों के किए गए फसल बीमा की राशि नहीं मिलने पर कलेक्टर द्वारा कराई जा रही जांच में बीमा कंपनी की गलती सामने आई है। भंडारपुर पीएनबी बैंक में पिछले साल लगभग 16 सौ किसानों ने फसल बीमा कराया था। बैंक द्वारा किसानों की प्रीमियम राशि को बीमा कंपनी को भी भेजा गया था, लेकिन बीमा देने के दौरान कंपनी नें इलाके के 815 किसानों को बीमा राशि प्रदान नहीं की। इसकी शिकायत के बाद किसानों ने कलेक्टर सहित शासन-प्रशासन से गुहार लगाई थी।

कलेक्टर द्वारा मामले में तीन सदस्यीय जांच कमेटी बनाई गई है, जिसमें खैरागढ़ एसडीएम, कृषि विभाग के अनुविभागीय अधिकारी सहित लीड बैंक प्रबंधक को शामिल किया गया है। गुरूवार को एसडीएम निष्ठापांडे तिवारी ने कृषि विभाग अधिकारियों की बैठक लेकर कृषि विभाग की फसल बीमा योजना के तहत जारी कार्रवाई के साथ भंडारपुर बैंक में बीमा राशि नहीं मिलने संबंधी मामले की जांच की समीक्षा की। प्रारंभिक तौर पर इसमें बीमा राशि द्वारा की गई लेटलतीफी ही सामने आई है। हांलांकि इसकी जांच प्रक्रिया अभी जारी है।

दस माह रखा प्रीमियम, कागजात नहीं होने पर कर दिया वापस

कृषि विभाग एसडीओ एके गुप्ता ने बताया कि भंडारपुर पीएनबी बैंक से बीमा कराए किसानों की प्रीमियम राशि को बीमा कंपनी ने दस माह तक अपने पास रखा था। दस माह बाद किसानों के आधार कार्ड सहित अन्य दस्तावेज पूर्ण नहीं होने का हवाला देकर प्रीमियम राशि को वापस कर दिया गया। जबकि बैंक ने समय पर किसानों की बीमा की प्रीमियम राशि काटकर बीमा कंपनी को भेज दी थी। कागजातों सहित दस्तावेजों को पूर्ण करने पखवाड़े भर का समय होता है। इसके बाद भी बीमा कंपनी द्वारा इस मामलें में कोई कार्यवाही नहीं की गई। गुप्ता ने बताया कि प्रांरभिक तौर पर इस तरह की जानकारी ही सामने आई है किसानों बैंक अधिकारियों से और बयान के बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

समय पर हो फसल बीमा योजना की कार्रवाई

कृषि विभाग अधिकारियों की बैठक लेते एसडीएम निष्ठा पांडे तिवारी ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का कार्य जारी है। हर किसान को इसका लाभ मिले ऐसी व्यवस्था बनाकर फसल बीमा से सभी किसानों को जोड़ा जाए। उल्लेखनीय है कि 15 जुलाई तक योजना के तहत किसान अपनी फसल का बीमा करा सकते हैं। इसके लिए गांवों में शिविर लगातार इसमें राजस्व, कृषि और बैंक कर्मचारियों को तैनात किया गया है। एसडीएम तिवारी ने कहा कि पिछले वर्ष ब्लाक में 26 हजार किसानों का फसल बीमा किया गया था। इस बार लक्ष्य ज्यादा है। कृषि अधिकारी एके गुप्ता ने बताया कि पिछले साल अऋणी किसानों में 8960 किसानों को फसल बीमा का लाभ मिला था। इस बार इसका लक्ष्य बढ़ाकर 94 सौ किया गया है। ऋणी और अऋणी दोनों में शत-प्रतिशत किसानों को फसल बीमा योजना से जोडऩे का लक्ष्य रखा गया है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned