टिड्डा दल के संभावित हमले को देखते हुए महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश सीमा छोर के इलाकों में अलर्ट ...

बचाव और निपटने की तैयारी कर रही सरकार

By: Nitin Dongre

Published: 30 May 2020, 05:55 AM IST

खैरागढ़. कोरोना संक्रमण से जूझ रहे इलाकों में शुक्रवार को टिड्डा दल के हमले की तैयारी में जुटना पड़ा। मप्र और महाराष्ट्र की सीमा से सटे ब्लॉक के दर्जन भर पंचायतों में इसकी तैयारी रखते कर्मचारियों को अलर्ट रहने कहा गया था। सूचना मुताबिक शुक्रवार को टिड्डा दल छग सीमा के आसपास पहुंचने की जानकारी दी गई थी। जिसके बाद खैरागढ़ ब्लाक के दक्षिण पश्चिम इलाके में मप्र और महाराष्ट्र सीमा वाले छोर पर पंचायतों में इसके लिए तैयारियां की गई है। ग्रामीणों के साथ-साथ किसानों को एलर्ट किया गया है। इनसे बचाव और निपटने के तरीके भी बताए गए है।

खैरागढ़ ब्लाक के महाराष्ट्र और मप्र की सीमा छोर से सटे इलाकों मुढ़ीपार, गातापार जंगल, देवरी, चिचका, मुंहडबरी, गातापार नाका, लक्षणा, मलैदा भावे सहित अन्य सीमावर्ती इलाकों में टिड्डा दल के घूसने की आश्ंाका जताई गई थी। मप्र सीमा से सटे इन इलाकों में एक दिन पहले ही पूरी तैयारी कर दिशा निर्देश जारी किए गए थे। पंचायत सचिवों के साथ-साथ इलाके में कृषि विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों को तैनात किया गया है। इलाके के किसानों और ग्रामीणों को भी इससे निपटान सहित बचाव के लिए तैयार रहने कहा गया है।

घने जंगल को पार करने लगता है दिन

शुक्रवार को पूरा इलाका एलर्ट रहा लेकिन सीमा क्षेत्रों में घने जंगलों के कारण टिड्डा दल शुक्रवार को इलाके में नही पहुंच पाया। जानकारों का मानना है कि घने जंगल को पार करने में ही टिड्डों को एक दिन से अधिक का समय लग सकता है। इसके चलते शनिवार और रविवार को भी इससे निपटनें की तैयारी रखी गई है। दक्षिण पश्चिम हवाओं के आधार पर इसके लिए ब्लाक के संक्रमित हो सकने वाले इलाकों को तैयार रखा गया है।

बचाव के तरीके निपटने की जानकारी दी

टिड्डा दल के संभावित हमले से फसलों को बचानें और इससे निपटनें के तरीको की जानकारी किसानों सहित कर्मचारियों को दी गई थी। टिड्डा की पहचाप किस तरह की जाए इससे कैसे बचा जाए इसके बारे में किसानों को स्पष्ट चेताया गया। टिड्डा एक बार में ही फसल को पूरी तरह नष्ट कर सकता है। इनकी पहचान करनें के तरीके के साथ साथ खेत खलिहानों में इसकी उपस्थिति जानने के तरीके भी बताए गए है।

जानकारी भी दी गई

इसमें प्राकृतिक उपचार में धुआं करने, परपंरागत उपायों में ध्वनिविस्तारक यंत्रो का उपयोग, पटाखे फोडऩे, कल्टीवेटर और रोटावेटर चलाकर अंडो को नष्ट करने, रासायनिक उपचारों में स्प्रेयर से कीटनाशकों का छिड़काव और फसलों को टिड्डा से बचाने दवाओं के नाम भी जारी किए गए है। आंशिक हमले से निपटने शोर मचाने और फलेम थ्रोवर के इस्तेमाल की जानकारी भी दी गई है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned