उगते सूरज को पहला अध्र्य देने के साथ हुआ छठ पर्व का आरंभ

छठ पर्व की बिखरी छटा

 

By: Nakul Sinha

Published: 15 Nov 2018, 11:46 AM IST

राजनांदगांव / डोंगरगढ़. सूर्य उपासना एवं बिहारी समुदाय का प्रमुख महापर्व छठ पर्व अर्थवेद के अनुसार प्रकृति के छठे अंश से षष्ठी माता उत्पन्न हुई जिसे बच्चों की रक्षा करने वाले भगवान विष्णु की रची माया भी माना जाता है। इसीलिए बच्चे के जन्म के छठे दिन छठी पूजी जाती है ताकि बच्चे के ग्रह गोचर शांत हो जाए। एक अन्य मान्यता के अनुसार कार्तिकेय की शक्ति है षष्ठी देवी, छठ महापर्व पर सिध्दी योग में नहाए खाएं और अमृत योग में सायंकालीन अर्ध होता है।

शाम को डूबते सूर्य को दिया अध्र्य
आज 13 नवंबर सायंकालीन अध्र्य पर अमृत योग व सर्वार्थ सिध्दी योग का संयोग है जबकि 14 नवंबर बुधवार की सुबह प्रात:कालीन अध्र्य पर छत्र योग का संयोग बन रहा है। सूर्य को अध्र्य से कई जन्मों के पाप नष्ट हो जाते है। छठ महापर्व खासकर शरीर, मन और आत्मा की शुध्दि का पर्व है। छठ पूजा बड़े नियम एवं विधिविधान से की जाती है। पूजा के लिए काफी सामान जुटाना पड़ता है इसमें बांस की टोकरी, सूप, लोटा, थाली, नये वस्त्र साड़ी, कुर्ता, पैजामा, चावल, लाल सिंदूर, धूप बड़ा दीपक, नारियल, गन्ना, सुथनी, शकरकंद, हल्दी, अदरक का पौधा, नाशपती, बड़ावाला मीठा नीबू, केला, अनानास, सेब, सिंघाड़ा, मूली, शहद, पान, सुपारी, केराव, कपूर, कुमकुम, चंदन आदि सामान लगता है।

प्रात:कालीन अध्र्य
बुधवार को कल सुबह प्रात: कालिन अध्र्य पर छत्र योग का संयोग बन रहा है जिसमें सूर्य भगवान को अध्र्य देने पर कई जन्मों के पाप नष्ट हो जाते है।

अध्र्य के लिए पालिका ने की विशेष व्यवस्था
पालिका द्वारा अध्र्य देने के लिए नगर के प्राचीन महावीर तालाब में विशेष व्यवस्था की गई जिसमें पिछले नवरात्रि की घटना को ध्यान में रखते हुए स्थानीय पुलिस द्वारा गोताखोर बुलाया गया है। तालाब के अंदर तीस फीट दुरी के अंदर जालीदार नेट लगाया गया है, घाट की साफ-सफाई कराई गई, कुड़ा उठाने लिए दो ट्रेक्टर व चारा, मजदुर सहित एक सफाई की मानिटरिंग के लिए सफाई दरोगा भी रखा गया है जिसके देखरेख में समय-समय पर तालाब की सफाई कराई जा रही है साथ ही शाम के अध्र्य के लिए लाईटिंग की व्यवस्था भी कराई गई है। प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी सैकड़ों की संख्या में व्रती महिलाएं उगते व डुबते सूर्य को अध्र्य देंगी।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned