ये है छत्तीसगढ़ का पहला गणित लैब, यहां प्रैक्टिकल मॉडल देखकर चुटकियों में कठिन सूत्रों को समझेंगे बच्चे

गणित को आसानी से समझने और इसमें रूचि पैदा करने के लिए जिले के लीड कॉलेज दिग्विजय महाविद्यालय में गणित लैब का उद्घाटन शुक्रवार हो चुका है।

By: Dakshi Sahu

Updated: 19 Jan 2019, 11:12 AM IST

राजनांदगांव. शहर सहित जिले के स्कूल व कॉलेज के विद्यार्थियों को अब गणित विषय के कठिन सूत्रों को समझना सरल हो जाएगा, क्योंकि गणित को आसानी से समझने और इसमें रूचि पैदा करने के लिए जिले के लीड कॉलेज दिग्विजय महाविद्यालय में गणित लैब का उद्घाटन शुक्रवार हो चुका है।

अवलोकन कर पाएंगे
यहां गणित के 20 मॉडल रखे गए हैं। इसके प्रायोगिक ज्ञान से गणित के विद्यार्थियों को कठिन प्रमेय को समझने में आसानी होगी। प्राचार्य डॉ. आरएन सिंह ने बताया कि लैब का उद्घाटन हो चुका है। इसे फरवरी में स्कूली बच्चों के अवलोकन के लिए विशेष रूप से आरक्षित किया जाएगा। गणित विषय के स्कूली बच्चे अलग-अलग समय में पहुंचकर अवलोकन कर पाएंगे।

भुवनेश्वर से लाए गए मॉडल
इन मॉडलों को क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र भुवनेश्वर से लाया गया है। इन मॉडलों में पायथागोरस प्रमेय, कोण, अवलोकन-समाकलन, सन डायल, इलेक्ट्रो मैगनेटिक फैन सहित २० अन्य मॉडल रखे गए हैं, जिसका प्रेक्टिकल कर इनसे जुड़े सवालों को आसानी से समझा जा सकता है। शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में शुक्रवार को गणित लैब का उद्घाटन रिटायर्ड प्रोफेसर डॉ. जीपी श्रीवास्तव के मुख्य आतिथ्य में किया गया।

विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ. मधु श्रीवास्तव मौजूद रहीं। अध्यक्षता कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आरएन सिंह ने की। इसके अलावा विभागाध्यक्ष डॉ. शबनम खान, डॉ. केके देवांगन, डॉ. हेमंत साव, प्रोफेसर कविता साखरे, प्रो. विनय के अलावा एमएससी, बीएससी व मैथ्स के विद्यार्थी मौजूद रहे। कॉलेज के अन्य प्रोफेसरों ने भी लैब का अवलोकन किया और हर्ष जताते हुए बधाई दी।

तीन लाख रूपए के खर्च से बना लैब
ज्ञात हो कि इस लैब को केंद्र सरकार द्वारा संचालित क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र भुनेश्वर से टाइअप कर कॉलेज प्रबंधन ने तैयार कराया है। इसमें प्रोजेक्ट में प्रबंधन ने करीब तीन लाख रुपए खर्च किया है। इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में प्राचार्य डॉ. सिंह ने विशेष रूचि ली।

इसके लिए कॉलेज के चुनिंदा विद्यार्थियों को क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र भेजा गया था, जहां वर्कशॉप को वे लाभ लिए। प्राचार्य दिग्विजय कॉलेज डॉ. आरएन सिंह ने बताया कि इस तरह का लैब प्रदेश में पहला है। इस लैब के माध्यम से गणित विषय के कठिन सूत्रों को समझने में आसानी होगी। इसे देख गणित के मॉडल भी विद्यार्थी अब आसानी से तैयार कर पाएंगे।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned