नगर में रोका-छेका अभियान हुआ ध्वस्त, आए दिन दुर्घटना का शिकार हो रहे मवेशी ...

नगर पंचायत में में काऊ-कैचर और कांजी हाऊस ही नहीं

By: Nitin Dongre

Published: 16 Jul 2020, 08:42 AM IST

डोंगरगांव. प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी अभियान रोका-छेका नगर में पूरी तरह फेल हो चुका है। नगर पंचायत की उदासीनता के चलते शहर की सड़कों व मुख्य मार्ग में आवारा पशुओं की चहलकदमी जारी है। जबकि निकाय में इस अभियान के घोषणा के तुरंत बाद नगर के पशु पालकों से शपथ पत्र लेकर खानापूर्ति किया गया था। वहीं इस अभियान के लिए अब तक निकाय संवेदनशील नहीं हुई है। नतीजा यह कि गोवंश आए दिन वाहन दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं।

नगर के भीतरी भाग में बीते तीन दिनों में 4 से अधिक मवेशी दुर्घटनाग्रस्त हुए हैं, इनमें शनिवार रात्रि राम व्दार चौक के पास, रविवार अलसुबह कालेज चौराहे तथा बस स्टैण्ड में घटित घटनाओं में गोवंश के घायल होने की खबर है। जबकि सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात विश्राम गृह के सामने वाहन से दुर्घटना घटी जिसमें रेस्ट हाऊस के सामने एक गाय की मौके पर ही दुर्घटना से मौत हो गई, जिसे मंगलवार सुबह सफाईकर्मियों ने काफी मेहनत कर सड़क से हटाया। नगर के मध्य से होकर गुजरने वाले कारीडोर स्टेट हाइवे नये बस स्टैण्ड, गौरव पथ सहित भीतरी भाग स्थित सड़कों में पशुओं का डेरा लगा रहता है। नगरवासियों के अनुसार पशुओं के चलते नगर के ाीतरी भाग में आए दिन जन-धन की हानि हो रही है।

धान की बोआई समाप्ति की ओर

खरीफ के सीजन में नगर से लगे कृषि क्षेत्रों में धान की बोआई लगभग समाप्ति की ओर है। वहीं पशुओं के चलते फसलों को काफी नुकसान हो रहा है। किसानों के अनुसार नगर के पुराना थाना समीप एवं मटिया स्थित कांजीहाऊस दोनों बदहाली में हैं। बीते पांच सालों से व्यवस्थित कांजी हाऊस निर्माण की मांग होते रही है, किन्तु अब तक सार्थक प्रयास इस दिशा में नहीं है। किसानों ने बताया कि खरीफ सीजन के पूर्व ही कांजी हाऊस का रखरखाव किया जाना चाहिए था।

पशुमालिकों को नगर पंचायत द्वारा दी जा चुकी है नोटिस

इधर डोंगरगांव के पशुपालकों ने बताया कि निकाय के व्दारा रोका-छेका का फार्म तो भरवाया गया है परन्तु नगर में अबतक गौठान संचालित हो पा रही है तथा गौठान में बदहाली के चलते पशुओं के बैठने की जगह भी नहीं है। वहीं नगर पंचायत सीएमओ की अनुपस्थिति में निकाय के वरिष्ठ कर्मचारी ने बताया कि नगर पंचायत के व्दारा काऊ कैचर खरीदने की व्यवस्था की जा रही है और पशु मालिकों को नगर पंचायत द्वारा नोटिस दिया जा चुका है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned