मायूसी...अवकाश के बाद खुले शासकीय कार्यालयों में नहीं हो पाया काम

स्कूलों में अवकाश का माहौल, बैंकों में रही भीड़

By: Nakul Sinha

Published: 15 Nov 2018, 11:52 AM IST

राजनांदगांव / खैरागढ़. दीवाली सहित चुनावी अवकाश के बाद खुले शासकीय कार्यालयों और स्कूलों में चुनावी खुमारी नही उतरी। शासकीय कार्यालयों में निचले स्तर के एक दो कर्मचारियों के अलावा कोई नही मिला, तो स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई नही हो पाई। शासकीय कर्मियों के चुनाव अभियान में कार्यरत होने के कारण अधिकांश शासकीय कार्यालयों में आए लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ा। मतदान में ड्यूटी लगने वाले कर्मचारियों की कार्यालयों में आमद नही हो पाई। शहर में राजस्व, शिक्षा विभाग सहित अन्य शासकीय कार्यालयों में अधिकारियों, कर्मचारियों के नही रहने से काम लेकर आए लोगों को वापस लौटना पड़ा।

बैंकों में रही भीड़
तीन दिन के अवकाश के बाद खुले बैंकों में मंगलवार को अपेक्षाकृत ज्यादा भीड़ रही। शनिवार, रविवार अवकाश के बाद सोमवार को मतदान के चलते सार्वजनिक अवकाश के कारण क्षेत्र के बैंक तीन दिनों से बंद रहे थे। मंगलवार को बैंकों के खुलते ही खातेदारों के साथ-साथ रोजाना होने वाले लेनदेन के लिए बड़ी संख्या में खातेदार पहुंचे। धान खरीदी प्रक्रिया जारी होने से दीवाली के बाद भुगतान के लिए किसान भी बैंको तक पहुंचे बैंकों में दिनभर लेनदेन जारी रहा।

स्कूलों में अवकाश सा माहौल
सबसे ज्यादा चुनाव ड्यूटी करने वाले शिक्षकों के चुनावी कार्य पूर्ण होकर नही लौटने के कारण स्कूलों में सप्ताह भर के अवकाश के बाद भी माहौल अवकाश सा रहा। उल्लेखनीय है कि ब्लाक के शिक्षकों की चुनावी ड्यूटी मोहला-मानपुर, खुज्जी, डोंगरगांव, डोंगरगढ़ सहित राजनांदगांव विधानसभा में लगाई गई थी। चुनाव कार्य निपटा कर अलसुबह से ब्लाक के कर्मचारी सहित शिक्षक वापस लौटने लगे थे। इसके चलते स्कूलों में शिक्षक समय पर नही पहुंच पाए जिसके कारण अधिकांश स्कूलों में पढ़ाई ठप्प रही।

बुधवार से व्यवस्था सुधरेंगी
चुनावी प्रक्रिया मंगलवार शाम हो पूरी होने के बाद प्रशासन सहित अधिकारियों, कर्मचारियों ने भी राहत की सांस ली है। शासकीय कार्यालयों में बुधवार से रौनक आएगी तो दूसरी ओर स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति सुधर जाएगी। चुनाव प्रक्रिया के कारण अधिकांश शासकीय कार्यालयों में माह भर से कार्य बुरी तरह से बाधित हो रहे थे। समय पर कार्य नही होने के कारण कई कार्य लंबित पड़े थे। चुनावी कार्यक्रम खत्म होने के बाद कर्मचारियों की उपस्थिति बुधवार से सुनिश्चित हो जाएगी।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned