कटोरा लेकर बस स्टैंड पर किया प्रदर्शन, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

कटोरा लेकर बस स्टैंड पर किया प्रदर्शन, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

Nakul Sinha | Publish: Sep, 08 2018 10:58:13 AM (IST) Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

मोहला कालेज के छात्र-छात्राएं उतरे सड़क पर

राजनांदगांव / अंबागढ़ चौकी. वनांचल क्षेत्र के मोहला में शासकीय लाल श्याम शाह नवीन महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने भारी बारिस में पानी गिरते हुए में कॉलेज की विभिन्न समस्याओं को लेकर बस स्टैंड से रैली निकाली और समस्याओं के निराकरण के लिए आवाज उठाई।

मांगें पूरा करने दिया 10 दिन का समय
कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने बताया कि शासकीय लाल श्याम शाह नवीन महाविद्यालय मोहला में खुले 11 वर्ष हो चुके है और नवीन भवन को बने महज 3 वर्ष हुआ है, इस महाविद्यालय में अधिकतर छात्र-छात्राएं ग्रामीण अंचल से आते है जहां इस महाविद्यालय में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। कालेज की समस्याओं के बारे में कई बार शासन और प्रशासन को अवगत कराया गया है लेकिन न शासन ध्यान दे रहा है और न ही प्रशासन।

कॉलेज में कमी की बात बताई
छात्र-छात्राओं ने ज्ञापन के माध्यम से कालेज की समस्याओं को तहसीलदार से बताया कि हमारे कॉलेज में प्राध्यापकों की कमी, नियमित प्राचार्य की कमी, भवन में पानी टपकना, स्नातक स्तर में हिंदी साहित्य विषय चालू किया जाए, महाविद्यालय परिसर के सामने से गौठान को दूसरी जगह ले जाया जाए, महाविद्यालय के सामने वाली जमीन 1 एक्टेयर महाविद्यालय को दिया जाए।

निराकरण के लिए १० दिन का समय
छात्र-छात्राओं ने तहसीलदार मोहला को ज्ञापन के माध्यम से इन सभी समस्याओं के निराकरण के लिए 10 दिन का समय दिया और अगर 10 दिन में महाविद्यालय की समस्याओं का निराकरण नही होता है तो इन छात्र-छात्राओं ने उग्र आंदोलन की बात कही। इन छात्र-छात्राओं के आंदोलन को मोहला मानपुर विधानसभा के जोगी पार्टी के प्रत्याशी संजीत ठाकुर सहित कार्यकर्ताओं ने भी अपना समर्थन दिया।

लावारिश पशुओं पर जनप्रतिनिधियों का रोष
गंडई पंडरिया. आज प्रात: फिर एक मूर्छित पशु का उपचार जनप्रतिनिधियों के सहयोग से पशु चिकित्सालय की टीम द्वारा सफल प्रयास किया गया जिसमें पाया गया कि गभान पशु जिसे 2 से 4 दिन पूर्व किसी अज्ञात वाहन ने ठोकर मारकर दी थी जिससे पशु की 2 पसलियां टूट गई थी, गर्भित पशु के अंदर बछड़े की 2 से 3 दिन पूर्व मृत्यु हो गई थी, जिसकी पीड़ा से गाय मूर्छित हो गई थी। डॉक्टरों की टीम ने तत्परता दिखाते हुए मृत बछड़े को बाहर निकाला और गाय का प्राथमिक उपचार किया गया अब गाय खतरे से बाहर है। जनप्रतिनिधियों की ओर से राजेश मेहता, खम्हन ताम्रकार, दिलीप ओगरे, नंदकिशोर साहू, रत्नेश कुलदीप ने मिलकर पशुओं को इस प्रकार अपने स्वार्थ सिधने के बाद सड़को पर छोड़ दिया जाता है जिसकी कड़ी निंदा की साथ ही कहा कि पशु क्रूरता का अपराध पशु मालिक पर लगना चाहिए। डॉ. संदीप इंदुरकर, श्यामलाल चतुरबिदानी, दानेस्वर अम्बादे, ओंकार नामदेव शामिल रहे।

Ad Block is Banned