सालों से सफाई नहीं होने पर नालों का गंदा पानी सड़क पर बहने लगा, सफाई अभियान में जुटा निगम अमला ...

लगातार बारिश होने से छोटे वार्डों में घरों में घुसा था पानी

By: Nitin Dongre

Updated: 14 Jun 2020, 08:47 AM IST

राजनांदगांव. लगातार बारिश होने के बाद शहर की सड़कों पर और छोटे वार्डों पर घरों में नालियों का पानी घुस जाने से लोगों को काफी परेशानी हुई। सुबह से ही निगम प्रशासन सफाई अभियान में जुट गया। सफाई अमले ने लंबे समय से जाम नालियों को की सफाई की। उसके बाद पूरे शहरों में जाम पड़ी नालियों की सफाई में जुट गई है। यदि शुरू से ही निचली बस्तियों में नालियों की सफाई की जाती तो आज घरों में गंदा पानी नहीं घुसता। हालांकि निगम प्रशासन ने बारिश से हफ्तेभर पहले बड़े नालों की सफाई का काम शुरू कर दिया था।

हफ्तेभर पहले शहर के बड़े नालों की सफाई शुरू हो चुकी थी। मेडिकल कॉलेज हास्पिटल के सामने महीनों से जमी गंदगी की सफाई की गई। लंबे समय से यहां सफाई नहीं होने के कारण नाला जाम सा हो गया था। भारी मात्रा में यहां से गंदगी और कचरा निकाला गया। ज्ञात हो कि आधे शहर का निस्तार गंदा पानी इस नाले से निकलता है। सफाई नहीं होने की स्थिति में बारिश में जाम नाले से पानी की निकासी नहीं हो पाती और गंदगी सड़क पर बहने लगती है। ऐसा ही लगातार हो रही बारिश के कारण बहुत से छोटे वार्डों में नालों का पानी सड़क पर बहने लगा।

नाली का पानी आया बाहर, सफाई में जुटा अमला

निगम के सफाई अमले की माने तो शुरुआत में ज्यादा जाम नालियों की सफाई की जा रही है। इसके बाद लगातार 3 दिनों से बारिश होने की वजह से सभी बड़े नालों का पानी सड़क पर आ गया इसके बाद अभी शहर के सभी नालियों की सफाई में जटे हैं। हालांकि समय-समय पर इन नालों की सफाई की जाती है, तो जाम की स्थिति निर्मित नहीं होती। शहर के बीच से गुजरे नार कन्हैया नाला, नंदई चौक नया हास्पिटल, जीई रोड की नालियां और जैन स्कूल के समीप पुलिस क्वार्टर की नालियां भी जाम है। पुलिस लाइन की नालियों में तो झाडिय़ां उग आईं हैं। वार्डवासियों ने बताया कि इन बड़े नालियों की नियमित सफाई नहीं होती।

इन क्षेत्रों की हुई सफाई

नगर निगम के सहयोग से पार्षद द्वारा राजीव नगर वार्ड नं. 42 में बरसात के जल भराव के संकट से निजाद पाने पूर्वानुमान करते हुए राजनांदगांव का प्रमुख बड़ा नाला रानीसागर से आडिटोरियम, साइंस कॉलेज, गुजराती स्कूल होते हुए अंतरराष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम होते हुए मेडिकल अस्पताल तक नाले की सफाई कराई गई।

गंदगी से बढ़ रहा मच्छरों का प्रकोप

बड़े नालियों की नियमित सफाई नहीं होने से गंदगी जाम है। गंदे पानी का ठहराव हो रहा है। इससे मच्छर पनप रहे हैं। निगम द्वारा चलाए जाने वाली फागिंग मशीन भी शहरी क्षेत्र के कुछ वार्डों में ही चलती है। आउटर और ग्रामीण वार्डों में फागिंग मशीन भी नियमित रूप से नहीं चलाई जाती है। इस वजह से मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है। बारिश के समय में मलेरिया और डेंगू की शिकायत सामने आती है। ये दोनों मच्छर से फैलने वाली बीमारी है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned