शिक्षा विभाग में एक के बाद एक करोड़ों रुपए के घोटाले, बर्तन खरीदी में गड़बड़ी की शिकायत पहुंची मंत्री तक

शिक्षा विभाग में लगातार घोटाला सामने आ रहा है। फर्नीचर व बर्तन खरीदी में हुए गड़बड़झाला की शिकायत मंत्री तक पहुंच गई है।

By: Dakshi Sahu

Updated: 21 Feb 2021, 12:10 PM IST

राजनांदगांव. शिक्षा विभाग में लगातार घोटाला सामने आ रहा है। फर्नीचर व बर्तन खरीदी में हुए गड़बड़झाला की शिकायत मंत्री तक पहुंच गई है। इसे लेकर शिक्षा विभाग के अफसरों की किरकिरी हो रही है। निष्पक्ष जांच हुई तो दोनों ही मामलों में बड़ी कार्रवाई हो सकती है। मिली जानकारी अनुसार राज्य परियोजना कार्यालय समग्र शिक्षा छग रायपुर से सीआरसी अनुदान की राशि स्वीकृत की गई थी। फर्नीचर क्रय सीएसआईडीसी दर पर ई-मानक पोर्टल के माध्यम से किया जाना था।

बंदरबांट किया जा रहा
डीईओ राजनांदगांव ने 151 संकूलों के लिए फर्नीचर क्रय की कार्यवाही सीएसआईडीसी दर पर ई-मानक पोर्टल के माध्यम से तो किया, लेकिन बिना मांग पत्र और बिना क्रय समिति का गठन किए ही गुणवत्ताविहीन फर्नीचर क्रय कर लिया गया है। क्योंकि फर्नीचर की क्वालिटी सीएसआईडीसी के मानक के अनुसार नहीं है, लेकिन सप्लायर को पूरा पेमेंट कर दिया गया। इतना ही नहीं लॉकडाउन के दौरान मध्याह्न भोजन के लिए बर्तन क्रय करते समय भी यही गलती की गई, यानि बिना मांग पत्र और बिना क्रय समिति के बेहद घटिया क्वालिटी के बर्तन खरीदी की गई है। इस तरह केन्द्र सरकार से प्राप्त राशि का खुलकर बंदरबांट किया जा रहा है।

कलेक्टर से मांग की गई
फर्नीचर खरीदी और बर्तन खरीदी का खरीदी आदेश तो जिला शिक्षा अधिकारी ने दिया और पेमेंट भी शिक्षा विभाग से हुआ है, तो जिम्मेदार भी शिक्षा विभाग होगा, लेकिन जांच करने के लिए उच्च अधिकारियों के हाथ पांव फूले जा रहे हंै। छत्तीसगढ़ पैरेंट्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष पॉल ने फर्नीचर और बर्तन घोटाले की जांच कर सभी दोषियों के खिलाफ तत्काल सख्त कार्रवाई करने के लिए कलेक्टर से मांग की गई है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned