देश की आठवीं जनगणना होगी इस बार डिजीटल, जनगणना के लिए मकान सूचीकरण के लिए प्रगणकों को दी गई महत्वपूर्ण जानकारी

जनगणना की प्रारंभिक तैयारी शुरू

By: Nakul Sinha

Published: 19 Mar 2020, 10:30 AM IST

राजनांदगांव / खैरागढ़. 2021 की जनगणना की शुरूआत करने इसकी प्रारंभिक तैयारी शुरू कर दी गई है। देश की आठवीं जनगणना इस बार डिजीटल होगी। शहर में जनगणना के तहत मकान सूची तैयार करने के साथ इसकी कार्रवाई शुरू होगी। इसके लिए निर्धारित किए गए प्रगणकों को स्थानीय नगरपालिका सभागार में इसकी महत्वपूर्ण जानकारी और कार्य की बारीकियां समझाई गई। इस दौरान प्रगणकों का कार्य संपादित करने वाले शिक्षक सहित अन्य विभागों के कर्मचारी और इन्हे इसकी जानकारी देने वाले मास्टर टे्रनर उपस्थित रहे।

जनगणना महत्वपूर्ण, बारीकी से होगा कार्य
भारतीय जनगणना की एक समृद्ध परम्परा है और विश्व की जनगणनाओं में से महत्वपूर्ण कार्य है। भारत में सबसे प्रथम जनगणना वर्ष 1872 में की गई। वर्ष 1881 की जनगणना संपूर्ण देश में एक साथ की गई थी, तब से भारत में प्रत्येक 10 वर्ष में जनगणना कार्य किया जाता है। भारत की स्वतंत्रता के प्राप्ति के बाद 2021 की जनगणना 8वीं जनगणना होगी। भारत की जनगणना का कार्य जनभागीदारी से ऐतिहासिक परंपरा को बनाए रखते हुए अनेकता में एकता की राष्ट्रीय भावना परिलक्षित होती है। उपरोक्त जानकारी देते व्याख्याता कमलेश्वर सिंह एवं सुनील कुमार गुणी ने प्रगणकों /पर्यवेक्षको को भारत की जनगणना 2021 की जानकरी दी। सुनील कुमार गुणी ने जनगणना के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि विभिन्न कल्याणाकारी कार्यक्रमों की योजना बनाने के लिए जमीनी स्तर पर सूचनाएं उपलब्ध कराना, जनगणना एक निश्चित समय पर देश और उनके व्यक्तित्यों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करना, देश और इसके व्यक्तियों के कल्याण के लिए ठोस नीतियों और कार्यक्रम तैयार करने के लिए जनगणना आंकड़ों की निरंतर आवश्यकता होती है।

मकान सूची की उपयोगिता जरूरी
कमलेश्वर सिंह ने मकान सूची करण और मकानों की गणना की असीम उपयोगिता बताते कहा कि यह मानव के रहन सहन की स्थितियों, आवास की कमी के व्यापक आंकड़े उपलब्ध कराना, आवास नीति तैयार करना और आवास की आवश्यक्ताओं को ध्यान में रखा जाता है। उन्होंने मकान सूचीकरण के लिए वार्डो का नजरी नक्शा बनाने महत्वपूर्ण जानकारी दी। ज्ञात हो कि 2021 की जनगणना में महत्वपूर्ण बात यह है कि यह जनगणना भारत की प्रथम डिजिटल जनगणना होगी। इस जनगणना में प्रगणकों को अपने स्वयं के मोबाईल फोन का प्रयोग करते हुए परिवारों की डिजिटल रूप से आंकड़े संकलित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। जनगणना कार्य में लगे प्रगणकों को मोबाईल फोन से आंकड़े एकत्रित करने प्रोत्साहित करने मानदेय में भी बढ़ोतरी की गई है। मोबाईल फोन से करने पर ज्यादा राशि जबकि कागज में करने पर कम राशि दी जाएगी। इस अवसर पर नगर के समस्त शैक्षिक संस्थाओं से 60-70 कर्मचारियों को जनगणना 2021 की प्रारंभिक जानकारी देने के लिए बैठक बुलाई गई थी। इस अवसर पर नगरपालिका का स्थानीय अमला सहित लेखापाल कुलदीप झा, हेमंत साहू, संजय यादव, मनोज शुक्ला, पियूष यादव आदि उपस्थित रहे।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned