नियमों को ताक में रख कर दिया प्राचार्य का संलग्नीकरण

प्रभारी प्राचार्य के भरोसे मॉडल स्कूल कन्या शिक्षा परिसर अंबागढ़ी चौकी

By: Nakul Sinha

Published: 27 Nov 2019, 11:04 AM IST

राजनांदगांव / कौड़ीकसा. नियम विरूद्ध शिक्षकों के स्थानांतरण व संलग्नीकरण करने वाले शिक्षा विभाग का एक और नया कारनामा कि शिक्षा विभाग के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ होगा जब किसी प्राचार्य का संलग्नीकरण किया गया होगा। आदिवासी क्षेत्रों को शिक्षा विहिन किया जा रहा है। आदिवासी हितों की बात करने वाली सरकार शिक्षा के प्रति कितनी सजग है यह वास्तविकता को बयां करती है।

संलग्नीकरण के नाम पर विद्यालयों को शिक्षकविहिन किया जा रहा
चौकी, मोहला, मानपुर आदिवासी विकासखंड होने के बाद भी शिक्षकों के स्थानांतरण संलग्नीकरण के नाम पर यहां संचालित विद्यालयों को शिक्षक विहिन किया जा रहा है। शायद सरकार की मंशा है कि अदिवासी क्षेत्र के बच्चे शिक्षित न हो। इसी प्रकार कार्यालय जिला शिक्षा अधिकारी राजनांदगांव के आदेश क्रमांक 7111/ स्था 5/ टी संवर्ग/ 2019-20 राजनांदगांव 9 सितंबर 2019 के अनुसार उपेंद्र कुमार देवांगन को कन्या शिक्षा परिसर के प्राचार्य से एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में पदस्थ कर दिया गया है, जबकि वेतन भत्ता मूलत: पदस्थ शाला से ही आहरित होगा।

प्राचार्य का एकलव्य में कर दिया स्थानांतरण
आदिवासी विभाग द्वारा संचालित राजनांदगांव जिले का एक मात्र कन्या शिक्षा परिसर जो कि प्राचार्य विहिन हो गया है तथा प्रभारी प्राचार्य के भरोसे संचालित हो रहा है। कन्या परिसर के प्राचार्य को संलग्न करने के बाद भी स्थानीय जनप्रतिनिधियों का मौन धारण रखे रहना भी समझ परे है। अंबागढ़ चौकी नगर का प्रतिष्ठित विद्या का मंदिर जहां पर वैसे तो ए ग्रेड के प्राचार्य को पदस्थ किया जाता है। लेकिन पद रिक्तता व राजनीतिक चाटुकारिता के कारण उपेंद्र देवांगन अपना पद स्थांतरण कराने में सफल हो गये थे और प्रशासनिक व्यवस्था से ज्यादा शासन से प्रतिवर्ष लाखों रूपए प्राप्त होने वाली बजट पर गिद्ध नजर थी। बताया गया कि आदिवासी विभाग में पूर्व में पदस्थ सहायक संचालक के करीबी होने के कारण पूर्व संचालक द्वारा संलग्न करने का प्रस्ताव पारित कर दिया गया था।

संलग्नीकरण समाप्त नहीं किया जाता तो होगा उग्र आंदोलन
अध्यक्ष जनभागीदारी समिति कन्या शिक्षा परिसर अं.चौकी, मनीष बंसोड़ ने कहा कि संलग्नीकरण का विरोध करता हूं और इसकी जानकारी क्षेत्रिय विधायक छन्नी साहू को अवगत करा दिया हूूं, जिनके द्वारा अविलंब वापस कराए जाने की बात कही गई है। प्रतिष्ठित संस्थान के प्राचार्य खुद गलत ढंग से संलग्न हुए है, संलग्नीकरण समाप्त नहीं किया जाता तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

विरोध में भाजपाई करेंगे धरना प्रदर्शन
पूर्व मंत्री छग शासन, रजिंदरपाल सिंह भाटिया ने कहा कि आदिवासी विकासखंड व नगर का एक मात्र कन्या परिसर के प्राचार्य को नियम विरूद्ध संलग्नीकरण किया गया है। जिला शिक्षा अधिकारी से बात करता हूं, प्राचार्य को वापस नहीं किया गया तो भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा धरना प्रदर्शन किया जाएगा, जब तक संलग्नीकरण समाप्ति का आदेश जारी न हो जाए।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned