टोकन पाने किसान कर रहे रतजगा, फिर धान बेचने लगानी होगी लाइन

धान खरीदी केंद्रों में उमड़ रही किसानों की भीड़

By: Nakul Sinha

Published: 03 Dec 2019, 11:23 AM IST

राजनांदगांव / डोंगरगढ़. डोंगरगढ़ विकासखंड में शासकीय धान खरीदी प्रारंभ होते ही धान खरीदी केंद्रों में किसानों की भीड़ उमड़ पड़ी है विकासखंड के विभिन्न खरीदी केंद्रों में टोकन पाने के लिए किसान रतजगा कर रहे है। लंबी लाइन लगाने के बाद भी किसानों को टोकन से वंचित रहना पड़ रहा है। कई किसानों को तो लाइन में लगने के बाद टेबल तक जाने के बाद पता चलता है कि उनकी धान बुवाई का रकबा कम कर दिया गया है जिससे पूरी मात्रा में धान नहीं बेच पाएंगे। किसानों में निराशा के साथ-साथ आक्रोश भी पनप रहा है।

धान खरीदी में देरी से हो रही समस्याएं
मुसरा स्थित धान खरीदी केंद्र में धान बेचने के लिए टोकन के लिए किसानों की भीड़ उमड़ पड़ी है। पिछले 15 दिनों की देरी की वजह से किसानों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोग आधी रात से केंद्र में आकर बैठे हैं। अलीवारा निवासी रवि तेंदुलकर ने बताया कि वे सुबह 4 बजे से लाइन में खड़े होकर कार्यालय के खुलने का इंतजार कर रहे थे। केंद्र में टोकन बांटने का कार्य भी बहुत धीमी गति से चल रहा है। समिति प्रबंधक गणेश राम वर्मा ने बताया कि उनके पास एक ही कंप्यूटर है उसमें भी लगातार मेहनत कर रहे हैं। खरीदे हुए धान को ऑनलाइन करना तथा उसी से टोकन का आबंंटन करना दोनों का एक साथ किए जाने के कारण परेशानी हो रही है जबकि खरीदी केंद्र में टोकन के लिए अलग से कंप्यूटर की व्यवस्था होनी चाहिए। क्षेत्र के किसान हो रही परेशानियों से शासन की इस व्यवस्था से खासे नाराज हैं।

किसानों का सोना पहुंचा उपार्जन केंद्र में
राज्य शासन द्वारा निर्धारित लक्ष्य 85 लाख क्विंटल धान खरीदी की शुरूआत डोंगरगढ़ विकासखंड के धान उपार्जन केंद्र ढारा एवं अछोली मे समिति के कार्यकारणी सदस्य अध्यक्ष राजकुमार द्विवेदी, सदस्य दुर्गा प्रसाद नायडू, मनोहर गेड़ाम, पूर्व सरपंच फिरंगीराम पटेल, योधन दास साहू, पुरन पटेल, उप सरपंच सुरेश गोश्वामी, समिति प्रबंधक गोपी महोबिया, एवं मारूती लाल कोचे की उपस्थिति में धान खरीदी शुरूआत तराजु बाट का तिलक बंदन फल माला चढ़ाकर किया गया। ढारा समिति के अध्यक्ष राजकुमार द्विवेदी ने सबसे पहले धान बेचने वाली महिला कृषक गौतर बाई साहू कोलारघाट पटवारी हल्का नं. 26 को फुल माला से स्वागत कर श्रीफल भेंट किया। उसके बाद सभी अतिथियों की उपस्थिति में गौतर बाई का 140 कट्टे धान का वजन किया गया। धान उपार्जन केंद्र ढारा एवं अछोली में जहां पिछले वर्ष 995 एवं 1390 किसान रकबा 1439.335 एवं 1984.733 रकबा पंजीकृत थे।

पंजीकृत किसानों की संख्या में हुई वृद्धि
वहीं इस बार कृषकों के ऋण माफ होने से डिफाल्टर कृषकों द्वारा धान बेचने के लिए पंजीयन कराने पर किसानों की संख्या इस बार बढ़कर ढारा एवं अछोली में क्रमश 1145 एवं 1707 हो गए हैं। शासन द्वारा पिछले वर्ष कि खरीदी को देखते हुए औसतन प्रतिदिन खरीदी ढारा में 1048 बोरी एवं अछोली में 1970 बोरी के आधार पर 15 दिनों के लिए 70 प्रतिशत निर्धारित किया गया है। कृषकों की संख्या एवं रकबा बढऩे से औसत खरीदी में 25 प्रतिशत बढऩे की संभावना है। इस बार पीडीएस और नए बारदाना का रेसियो 50-50 रखा गया है।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned