कोरोना सैंपल देकर भी दुकानदारी कर रहा था व्यवसायी, दुकान सील कर पुलिस ने किया मालिक पर FIR

कोरोना संक्रमण के दौरान क्वारंटाइन के नियमों का उल्लंघन करने के मामले में राजनांदगांव पुलिस दुकान के मालिक के खिलाफ अपराध दर्ज किया है। (chhattisgarh coronavirus update)

By: Dakshi Sahu

Published: 01 Aug 2020, 05:11 PM IST

राजनांदगांव. कोरोना संक्रमण के दौरान क्वारंटाइन के नियमों का उल्लंघन करने के मामले में राजनांदगांव पुलिस दुकान के मालिक के खिलाफ अपराध दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि शहर के रतन फैंसी स्टोर के संचालक वेदप्रकाश भीमनानी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। प्रशासन ने इस संस्थान की गुडाख़ू लाइन स्थित दोनों दुकानों को भी सील कर दिया है।

सैंपल देकर भी चला रहा थे दुकान
व्यावसायी के परिवार के सदस्य लगातार कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं। प्रशासन को प्रथम दृष्टि यह पता चला कि कोरोना जांच का सैंपल देने के बाद भी शहर में दुकानदारी करने के चलते इनसे जुड़े लोग लगातार पॉजिटिव निकल रहे हैं। कोरोना संक्रमण में लापरवाही के चलते रतन फैंसी के संचालक भीमनानी के खिलाफ धारा 188 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। क्वारंटाइन नियमों के उल्लंघन के चलते यह सख्त कार्रवाई की गई है।

अब बिना लक्षण वालों के लिए बनेगा अलग आइसोलेट वार्ड

जिले में आईटीबीपी में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब इस फोर्स के एसिप्टोमेटिक (बिना लक्षण वाले) मरीजों का इलाज कोविड अस्पताल के बजाए कैम्प तैयार कर आइसोलेट कर किया जाएगा। इसके लिए सोमनी में ही स्वास्थ्य विभाग के भवन में तैयारी की जा रही है। जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और आईटीबीपी की शुक्रवार को बैठक में यह तय किया गया।

राजनांदगांव जिले में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है और यहां करीब 260 बेड मरीजों के लिए तैयार हैं। मौजूदा आंकड़ों के अनुसार इनमें से आधे से ज्यादा में आईटीबीपी के जवान हैं। ऐसे में यह तय किया गया है कि फोर्स के बिना लक्षण वाले कोरोना संक्रमितों का इलाज कोविड अस्पताल के बाहर ही किया जाए।

ढाई सौ से ज्यादा संक्रमित
जानकारी के अनुसार जिले के कुल संक्रमित मामलों 694 में आईटीबीपी से ही 259 केस हैं। साथ ही संक्रमित पुलिस जवानों की संख्या 30 है। यानि तीस फीसदी से ज्यादा संक्रमित आईटीबीपी से ही हैं। इन आंकड़ों को देखते हुए कोरोना मरीजों के इलाज की दिशा में नए फैसले लिए गए हैं।

लक्षण होने पर ही अस्पताल भेजा जाएगा
कलेक्टर के साथ ही स्वास्थ्य अमले और आईटीबीपी के अफसरों की बैठक में तय किया गया है कि बिना लक्षण के मरीजों का इलाज आइसोलेशन वार्ड बनाकर किया जाएगा और किसी तरह के लक्षण मिलने पर उनको अस्पताल में शिफ्ट किया जाएगा।

coronavirus
Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned