पांच बहनों का हौसला नहीं तोड़ पाई गरीबी, मेहनत और लगन से पांचों बन गई खो-खो की नेशनल प्लेयर

पांच बहनों का हौसला नहीं तोड़ पाई गरीबी, मेहनत और लगन से पांचों बन गई खो-खो की नेशनल प्लेयर

Nakul Sinha | Publish: Sep, 04 2018 04:05:09 PM (IST) Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

उपलब्धि: सात बहनों में पांच ने खेला नेशनल, आठ बार नेशनल खेलने वाली फूलबाई अब पुलिस बन करेगी देशसेवा

राजनांदगांव / खैरागढ़. सात बहनो मे पांच बहनो ने गरीबी और विपरीत परिस्थिति मे शिक्षा के साथ खेल मे हिस्सा लेकर जहाँ राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने अव्व रही। तो अब खेल मे रही सक्रियता और बेहतर प्रदर्शन ने पुलिस की नौकरी भी आसान कर दी।

गरीबी और विपरीत परिस्थिति मे आठ बार नेशनल खोखो मे प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर चुकी ब्लाक के अकरजन गांव की फू लबाई निषाद अब देश की सेवा करेगी। फूलबाई का चयन छग पुलिस भर्ती मे आरक्षक जीडी के पद पर हुआ है पुलिस की सेवा मे जाने को लेकर फूलबाई और पूरा परिवार जहां उत्साह से लबरेज है तो दूसरी ओर सात बहनो वाले परिवार की स्थिति मे अब सुधार की गुंजाइश बनी है।

एक परिवार की 5 बेटियां खो-खो में
अकरजन पंचायत मे रहने वाली विश्वनाथ निषाद की सात बेटिया है। जिसमें से पांच बेटियां खोखो मे नेशनल तक प्रतिनिधित्व कर चुकी है विश्वनाथ निषाद राजमिस्त्री का कार्य कर अपना परिवार चला रहे है। पढ़ाई के साथ खोखो का जूनून एक के बाद एक बहनो को बढ़ता गया।

पांच बहनो मे तीसरे नंबर की फूलबाई ने खोखो मे आठ बार प्रदेश टीम का प्रतिनिधित्व नेशनल प्रतियोगिता के लिए किया है। इस दौरान फूलबाई दिल्ली, कर्नाटक, आगरा, उमरिया और उज्जैन, आंध्रप्रदेश सहित महाराष्ट मे नेशनल प्रतियोगिता मे प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया है। गरीब परिस्थिति मे भी खेल मे सक्रियता दिखाने वाली फूलबाई पढ़ाई मे ही बेहतर है 12 वी परीक्षा मे 78 फीसदी अंक हासिल करने वाली फूलबाई ने कुछ माह पूर्व पुलिस भर्ती प्रकिे्रया मे हाथ अजमाया।

फिजीकल को जोरदार तरीके से पास करने के बाद लिखित मे भी फूलबाई ने बेहतर अंक हासिल किया। अब उसका चयन पुलिस मे हो गया। फूलबाई के साथ दो बार नेशनल खोखो खेल चुकी तुलेश्वरी वर्मा ग्राम कुसियारी का चयन भी पुलिस भर्ती मे हुआ है।

स्कूल ने की मदद, शिक्षक करते रहे सहयोग
फूलबाई की पढ़ाई सहित स्कूली खर्चों के लिए शासकीय कन्या शाला परिवार काफी आगे रहा। विपरीत परिस्थिति निर्मित होने पर पढ़ाई की फीस स्कूल प्रबंधन माफ करते रहा। पुस्तक सहित अन्य व्यवस्था शिक्षक, खेल संघ, फेडरेशन की ओर से होता रहा। फिलहाल फूलबाई महाविद्यालय मे द्वितीय वर्ष की छात्रा है।

खेल मे विपरीत परिस्थिति मे घर का साथ नही मिलने पर भी खेल संस्थाओ के साथ प्रशिक्षको ने हाथोहाथ लिया। नेशनल मे चयन होने पर उसके लिए डे्रस सहित अन्य व्यवस्था भी शिक्षको ने ही बनाई। फूलबाई के पुलिस मे चयन से अब परिवार की स्थिति सुधरने का उत्साह है फूलबाई ने पुलिस भर्ती प्रक्रिया मे जोरदार प्रयास पर सफलता मिलने पर खुशी जताते कहा कि परिवार के लिए ऐसी जरूरत थी।

तैयार करेंगे
पीटीआई, शासकीय कन्या शाला खैरागढ़, कन्हैया पटेल ने कहा कि आठ बार नेशनल खोखो मे प्रदेश की ओर से प्रतिनिधित्व करने वाली फूलबाई पुलिस भर्ती मे उत्तीर्ण हुई है खेल के प्रति लगाव और बेहतर फिटनेस के चलते उक्त खिलाड़ी का चयन उत्साहवर्धक है बाकी खिलाडिय़ो को भी खेल के लिए अब चयन के लिए तैयार करेंगे।

Ad Block is Banned