पूर्व परिवहन मंत्री और भाजपा के वरिष्ट नेता ने की आत्महत्या, पूर्व CM डॉ. रमन के नाम लिखा सुसाइडल नोट

BJP Leader suicide in Rajnandgaon: छुरिया में भाजपा नेता और पूर्व मंत्री राजिंदर पाल सिंह भाटिया (72) ने अपने निवास स्थान में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है।

By: Dakshi Sahu

Published: 20 Sep 2021, 11:29 AM IST

राजनांदगांव. छुरिया में भाजपा नेता और पूर्व मंत्री राजिंदर पाल सिंह भाटिया (72) ने रविवार तकरीबन 6.30 बजे अपने निवास स्थान में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। बताया जा रहा है कि वे कुछ दिनों से पोस्ट कोविड की समस्या से जूझ रहे थे। सूचना के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच मर्ग कायम किया है। पुलिस को सुसाइड नोट भी मिला है। हालांकि पुलिस ने अभी इसकी पुष्टि नहीं की है। कमरे को सील कर पुलिस फोरेसिंक टीम बुलाया गया था।

पुलिस से मिली जानकारी अनुसार छुरिया निवासी पूर्व मंत्री राजिंदर पाल सिंह भाटिया ने अपने निवास स्थान पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। भाटिया भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में माने जाते हैं। ऐसे में छुरिया क्षेत्र व भाजपा संगठन के लिए यह अपूर्णीय क्षति है।

Read More: भाजपा नेता संजीव जैन आत्महत्या मामले में पति-पत्नी गिरफ्तार, प्रेम जाल में फंसाकर महिला ने ऐंठे दो करोड़, अवैध संबंध के नाम पर करती थी ब्लैकमेल ....

कोविड होने के बाद से थे बीमार
सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार भाटिया कोरोना पॉजिटिव हुए थे। इसके बाद वे पोस्ट कोविड की समस्या से जूझ रहे थे, इसके अलावा अन्य समस्याएं भी थीं, जिसका दिल्ली, रायपुर व अन्य जगहों पर इलाज चल रहा था। काफी समय से वे स्वास्थ्य को लेकर परेशान थे। हालांकि 72 वर्ष की उम्र में भी वे बेहद फिट दिखते थे और स्वास्थ्य को लेकर जागरुक रहते थे। वे रायपुर में मेडिशाइन अस्पताल के डायरेक्टर भी हैं।

तीन बार विधायक रहे
भाटिया भाजपा शासन के समय कई बड़े पदों पर रह चुके हैं। भाटिया भाजपा शासन में परिवहन मंत्री के रूप में काम कर चुके हैं। वे छुरिया से तीन बार विधायक भी रहे। भाटिया भाजपा से अलग होकर निर्दलीय चुनाव भी लड़ चुके हैं। मिलनसार व्यक्तित्व के धनी भाटिया के इस कदम से भाजपा व छुरिया में शोक की लहर है।

नहीं मिली थी टिकट
डॉ. रमन सिंह की पहली सरकार में परिवहन मंत्री थे। बाद में सीएसआईडीसी के चेयरमैन रहे। 2008 में भाजपा ने जब उन्हें टिकट नहीं दी, तो भाजपा छोड़ निर्दलीय चुनाव लड़े और दूसरे नंबर पर रहे, भाजपा तीसरे नंबर पर रही। 2014 में तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के पुत्र अभिषेक सिंह लोकसभा का चुनाव लड़े, तब इनकी भाजपा में वापसी हुई, पर 2018 के चुनाव में भी इन्हें टिकट नहीं मिली।

सुसाइडल नोट, रमन को दिया धन्यवाद
रमन सरकार में मंत्री रहे रजिंदरपाल सिंह भाटिया ने खुदकुशी के पूर्व सुसाइडल नोट छोडा़ है और इस पत्र में उन्होंने अपनी राजनीति को बढ़ाने के लिए पूर्व मंत्री डॉ. रमन सिंह, उनकी पत्नी वीणा सिंह और पुत्र पूर्व सांसद अभिषेक सिंह को धन्यवाद दिया है। भाटिया ने यह भी लिखा है कि कोविड होने के बाद वे पीठ की तकलीफ से जूझ रहे थे और ऐसे समय में परिवार ने खूब सेवा की। उन्होंने लिखा कि वे प्रकृति के विपरीत काम कर रहे हैं लेकिन वे अब जा रहे हैं। खुदकुशी के करीब दस दिन पहले भाटिया ने अपनी लाइसेंसी पिस्टल पुलिस के पास जमा कर दी थी।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned