हड़बड़ी इतनी कि कंटेनमेंट क्षेत्र से लगातार कर रहे तेंदूपत्ता परिवहन

एक ही वाहन से देर रात तक विभाग करता रहा तेंदूपत्ता की ढुलाई

By: Nakul Sinha

Published: 24 May 2020, 05:52 AM IST

राजनांदगांव / डोंगरगांव. वन विभाग को तेंदूपत्ता के परिवहन की इतनी हड़बड़ी थी कि विभाग के कर्मचारी हाल ही में घोषित कंटेनमेंट क्षेत्र से लगातार ढुलाई करते रहे। यह खुलासा विभाग के द्वारा जारी तथाकथित टीपी से भी प्रमाणित हो रही है। बता दें कि समीपस्थ ग्राम जंतर में एक महिला के कोरोना संक्रमित पाए जाने के कारण उक्त ग्राम तथा इसके तीन से पांच किलोमीटर की परिधि में आने वाले ग्रामों को बफर जोन घोषित किया गया है। इन ग्रामों में आवाजाही को तत्काल प्रभाव से ही प्रतिबंधित कर दिया गया था परंतु उक्त प्रतिबंध के बावजूद भी विभाग के कर्मचारियों ने देर रात्रि तक तेंदूपत्ता का परिवहन कर डोंगरगांव वनोपज भंडार गृह के बरामदे में लाकर रख दिया। जबकि उक्त तेंदूपत्ता को विधिवत आवक कर गोदाम के भीतर भंडारित किया जाना चाहिए था। परंतु नियमों को ताक में रखकर अपनी कमजोरियों को छुपाने के नियत से विभाग के कर्मचारी इस प्रकार का कृत्य कर रहे हैं।

टीपी में टाईमिंग को लेकर उठे सवाल
उक्त तेंदूपत्ता परिवहन के लिए एकमात्र पिकअप वाहन क्रमांक सीजी08 एल 2919 को लगाया गया था। उक्त वाहन को सुबह 9 बजे परिवहन अनुज्ञा जारी की गई जिसके लिए पुस्तक क्र.377 व पृष्ठ क्र.1 के माध्यम से टीपी रसीद दिया गया। यह वाहन सुबह 9 बजे खुज्जी रेंज के इकाई 261 आसरा से 35 से 40 बोरे तेंदूपत्ता भरकर लगभग 15 किलोमीटर की दूरी तक कर डोंगरगांव तेंदूपत्ता गोदाम पहुंचकर पुन: फड़ से लोडिंग कर रवाना होना दर्शाया जा रहा है। इस पूरे घटनाक्रम में महज एक घंटे का समय टीपी में दर्ज समय अनेक संदेहों को जन्म देता है। वहीं एक टीपी के पुस्तक क्र.377 पृष्ठ क्र.5 के उक्त अनुज्ञा पत्र में परिवहन में प्रयुक्त वाहन का नाम व नंबर ही दर्ज नहीं है। वहीं विभाग से ऑफ द रिकार्ड मिली जानकारी के अनुसार परिवहन दिनांक तक मुख्यालय से अनुज्ञा पत्र का बुक ही जारी नहीं किया गया था।

Nakul Sinha Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned