मोबाइल रिचार्ज के लिए 200 रुपए मांगने पर नहीं दिया तो कर दी हत्या, 12 घंटे में आरोपी को पुलिस ने धरदबोचा ...

ग्राम कोहका में पुलिया के पास एक नाबालिग के साथ मिलकर आरोपी ने की थी हत्या

By: Nitin Dongre

Updated: 01 Aug 2020, 07:09 AM IST

डोंगरगांव. ग्राम कोहका स्थित पुलिया में गुरूवार दोपहर को हुए जघन्य हत्याकांड के आरोपियों को पुलिस ने बारह घंटे के भीतर ही ढूंढ निकाला है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पकड़े गए आरोपियों में एक युवक मुकेश वैष्णव पिता ओकार वैष्णव 26 वर्ष निवासी कोहका सहित एक विधि से संघर्षरत बालक हैं। इन दोनों ने मिलकर मामूली विवाद में कोहका निवासी प्रेमलाल मेश्राम की हत्या कर दी थी। हत्या कारण 200 रुपए का मोबाइल रिचार्ज के लेनदेन का है।

पुलिस ने बताया कि मृतक प्रेमलाल डोंगरगांव से अपने ग्राम कोहका की ओर जा रहा था, तभी ग्राम के समीप कोहका पुलिया के समीप उक्त दोनों आरोपी युवक बैठे थे। मृतक को आते देख उसे रोककर अपना मोबाइल रिचार्ज करवाया और बाद में पैसे देने के लिए आनाकानी करने लगे। इस पर तीनों के बीच तनातनी और विवाद की स्थिति निर्मित हुई और इसी दौरान आरोपियों ने मृतक को सिर पर पहले पत्थर से वार किया और बाद में उसे पुलिया के नीचे धक्का दे दिया।

घटना स्थल पर ही हो गई मृत्यु

पुलिस ने बताया कि मृतक को अधमरा देखकर आरोपी ने पुन: पत्थर से उसके सिर पर हमला कर दिया जिससे मृतक की घटना स्थल पर ही मृत्यु हो गई। घटना स्थल पर मिले चप्पल व अन्य साक्ष्यों के आधार पर पुलिस ने तत्काल ही घेराबंदी कर आरोपियों की पतासाजी में जुट गई थी। वहीं टावर लोकेशन के आधार पर आरोपी युवक और एक विधि से संघर्षरत बालक को ग्राम कुरूद जिला दुर्ग से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उक्त युवकों को मेडिकल जांच उपरांत न्यायालय में पेश किया है।

पूरी रात चला सर्च अभियान

नगर से सटे ग्राम कोहका में सरेराह हुए हत्याकांड के बाद से ही पुलिस संदिग्धों की पता-तलाश में जुट गई थी। इसके बाद ही आरोपी युवक व एक विधि से संघर्षरत बालक को ग्राम कुरूद जिला दुर्ग से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त हुई। इस पूरे अभियान का संचालन एसडीओपी घनश्याम कामड़े, डोंगरगांव टीआई केपी मरकाम, साईबर सेल के प्र.आ. बसंतराव, आरक्षक प्रवीण मेश्राम, मनीष मानिकपुर, आ. राकेश ध्रुव तथा थाना टीम में सउनि. मेघनाथ सिन्हा, गोवर्धन देशमुख, प्र.आ. मोहन चंदेल, जय सोनवानी, आर योगेश साहू, राणा प्रसन्ना व आरक्षक जामेन्द्र वर्मा की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned