घोरदा में हर मोहल्ले में क्लास संचालित कर बच्चों को शिक्षा दे रहे गांव के ही युवा ...

गांव के स्नातक डीएड-बीएड करने वाले युवाओं को प्राथमिकता के साथ पढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया गया। युवाओं ने भी आगे आकर बच्चों को मोहल्ले और पारा अनुसार घरों में ही पढऩे के लिए खुशी-खुशी तैयार हुए।

By: Nitin Dongre

Updated: 27 Jul 2020, 08:34 AM IST

अंबागढ़-चौकी. वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते सभी स्कूलों में ताले लगे हैं। स्कूलों को क्वारंटाइन सेंटर बनाएं गए हैं। इस विषम परिस्थिति में शिक्षा विभाग द्वारा पढ़ाई तुहर द्वार योजना से ऑनलाइन क्लास चलाया जा रहा है, लेकिन इसमें भी बहुत ज्यादा परेशानी हो रही है। कुछ के पास मोबाइल नहीं है, तो कुछ के पास मोबाइल खरीदने के लिए पैसे का अभाव है, तो कुछ के पास नेटवर्क नहीं है। इस योजना में केवल 15 से 20त्न बच्चे ही जुड़ पा रहे हैं।

इस कठिन दौर में भी बच्चों की पढ़ाई को घर से ही जारी रखने के लिए विकासखंड अंबागढ़ चौकी के प्राथमिक शाला घोरदा प्रभारी शिक्षक राजेश्वर साहू एवं साथी शिक्षक कृपा राम साहू ने स्वम पहल करते हुए गांव के ग्राम पटेल, शाला प्रबंध समिति और पालकों से सतत् संपर्क कर इस बारे में चर्चा किए, परिणाम स्वरूप शिक्षा सारथी का चयन किया गया। जिसमें गांव के स्नातक डीएड-बीएड करने वाले युवाओं को प्राथमिकता के साथ पढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया गया। युवाओं ने भी आगे आकर बच्चों को मोहल्ले और पारा अनुसार घरों में ही पढऩे के लिए खुशी-खुशी तैयार हुए। शिक्षकों की मार्गदर्शन और दिशा निर्देश में इन युवाओं द्वारा नियमित अपनी सुविधा अनुसार और बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पढ़ाई जारी किए हैं।

पालकों के चेहरे में भी खुशी दिखाई देने लगी

शिक्षा सारथी के रूप में मुख्य रूप से गांव के मोहित पटेल, देव कुमार नायक, हुमेंद कोरटियि, कुमारी विनिता धनगुन, सेवंतीन कोरटिया, रेणुका भुआर्य अपना अमूल्य योगदान दे रहे हैं। बच्चों का मोहल्ले वार समूह बनाया गया है, जिसमें 4 से 5 बच्चों का सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पढ़ाई कराया जाता है। अपने बच्चों की पढ़ाई देखकर पालकों के चेहरे में भी खुशी दिखाई देने लगी है। इस कार्यक्रम के लिए विकास खंड शिक्षा अधिकारी अर्जुन देवांगन, विकासखंड स्त्रोत समन्वयक मनोज मरकाम, संकुल समन्वयक श्रीवास दत्त एवं सहायक नोडल अधिकारी रुपेश तिवारी ने शिक्षकों, पालको व युवाओं का खुले मन से प्रशंसा किए हैं।

ऑनलाइन क्लास भी जारी

संस्था प्रभारी शिक्षक राजेश्वर साहू विगत दो माह से दोनों शिक्षकों द्वारा प्रत्येक दिन बारी-बारी से ऑनलाइन क्लास भी ले रहे हंै। इसके लिए कुछ पालकों ने वर्तमान में मोबाइल लिए हैं, जिसके लिए शिक्षक ने अपना आर्थिक सहयोग भी दिए हैं।

बच्चों को पढ़ाना जरूरी

जिला शिक्षा अधिकारी एचआर सोम ने कहा कि ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों के मार्गदर्शन में शिक्षक स्वप्रेरित होकर बेहतर कार्य कर रहे हैं। इस तरह हर गांव के पढ़े-लिखे युवाओं को सामने आकर बच्चों को पढ़ाना चाहिए।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned