राजनांदगांव में 62 व्यक्ति कोरोना के संक्रमण काल में, 3 हजार अन्य राज्यों से व सौ व्यक्ति विदेश प्रवास से आए ...

कोरोना के कहर से निजात दिलाने जमीन पर उतरा प्रशासनिक अमला

राजनांदगांव. कोरोना से बचाव के लिए यहां लगातार कड़े कदम उठाए जा रहे हैं। राजनांदगांव जिले में अब तक की स्थिति में 62 व्यक्ति कोरोना वायरस के संक्रमण काल में है। सभी को क्वारेंटाईन सेंटर और होम आइसोलेशन में रखा गया है।

कलक्टर जयप्रकाश मौर्य ने बताया कि जिले में लगभग 3 हजार व्यक्ति अन्य राज्यों से प्रवास कर संक्रमण अवधि के भीतर आये है। लगभग 100 व्यक्ति विदेश प्रवास से आए है। इनमें से 62 व्यक्ति संक्रमण काल में हैं। यह संख्या बहुत अधिक है तथा इन व्यक्तियों से अन्य व्यक्तियों में संक्रमण की आशंका है। परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

विदेश प्रवास से लौटे व्यक्तियों के संबंध में प्रोटोकाल

जो व्यक्ति विदेश प्रवास से आए हैं, उन शत-प्रतिशत व्यक्तियों को जिला प्रशासन को सूचना देना अनिवार्य है। ऐसे व्यक्ति डॉक्टरी सलाह के अनुसार क्वारेंटाईन सेंटर में अनिवार्य रूप से भेजे जाएंगे। जांच के बाद कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्षण मिलने पर सेंपल लिया जाएगा। पॉजिटिव पाए जाने पर तत्काल अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती किया जाएगा। शत-प्रतिशत व्यक्ति जो विदेश भ्रमण कर आए हैं, उन्हें क्वारेंटाईन सेंटर में दाखिल किया जाना सुनिश्चित करें। ऐसे व्यक्ति जो संक्रमण अवधि से बाहर हो चुके हैं, वे मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी राजनांदगांव से प्रमाण-पत्र लेकर अपने आप को 28 दिन तक होम आईसोलेशन में अनिवार्यत: रखना सुनिश्चित करेंगे। उपरोक्तानुसार प्रति दिन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी राजनांदगांव संक्रमण अवधि से बाहर आए व्यक्ति की सूची प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जारी करेंगे।

देश के भीतर प्रवास से लौटे व्यक्तियों के संबंध में प्रोटोकॉल

जो व्यक्ति भारत के अन्य राज्यों से प्रवास कर जिले में आये हैं ऐसे व्यक्ति इसकी सूचना संबंधित ग्राम पंचायत को अनिवार्य रूप से देंगे। ऐसे व्यक्तियों की जांच प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अनिवार्यत: करना सुनिश्चित करें। इसके अलावा मोबाईल मेडिकल यूनिट के माध्यम से भी जांच कराई जा सकती है। ऐसे व्यक्ति जो अन्य प्रदेशों से प्रवास कर आए हैं और जिनमें कोरोना के संक्रमण के लक्षण नहीं हैं ग्राम पंचायत अथवा नगरीय निकाय में जिस तिथि को पहुंचे हैं उस तिथि से 14 दिवस तक अपने आपको होम आईसोलेशन में रखें। यदि ऐसे व्यक्तियों के अंदर कोरोना संक्रमण से संबंधित कोई लक्षण है तो तत्काल ऐसे व्यक्तियों को जांच के लिए नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में भेजें। कोरोना संक्रमण के लक्षण होने पर तत्काल उनका सेम्पल लिया जाएगा। जांच रिपोर्ट के आने के पूर्व तक ऐसे व्यक्ति ग्राम पंचायत द्वारा चिन्हित क्वारेंटाईन सेंटर जैसे- सामुदायिक भवन, स्कूल इत्यादि में रहना सुनिश्चित करें। क्वारेंटाईन सेंटर में आवश्यक व्यवस्था एवं संचालन की जिम्मेदारी संबंधित ग्राम पंचायत की होगी। इन क्वारेंटाईन सेंटर में डॉक्टरों की टीम समय-समय पर भ्रमण में रहेगी। इन सेंटरों में व्यवस्था के संचालन के लिए संबंधित ग्राम पंचायत के सचिव, मितानिन, एएनएम, आरएचओ की ड्यूटी रहेगी। क्वारेंटाईन सेंटर के संचालन में लगे कर्मी कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए निर्धारित मापदंडों का पालन करेंगे।

शहर में सेनेटाइजेशन शुरू

महापौर हेमा देशमुख के निर्देशानुसार शहर के जयस्तंभ चौक, गुड़ाखू लाइन, रामाधीन मार्ग, सिनेमा लाइन, कामठी लाइन आदि में सेनिटाइजेशन की शुरुआत की गई। इसके पूर्व ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव शहर में किया जा चुका है। आज से शहर के घनी आबादी क्षेत्रो में सेनेटाइजेशन की शुरुआत महापौर के निर्देश पर की गई है।

संक्रमण से बचने के लिए मुख्य उपाय

साबुन से बार-बार हाथ धुलाई करना, सामाजिक मेल-मिलाप नहीं करना, बाहर नहीं घूमना, घर पर ही रहना यदि मिलते हैं तो लोगों से पर्याप्त दूरी बना कर रखना।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned