शासन के आदेश का उल्लंघन कर अधिक दामों में हो रही खरीदी, लगाया जा रहा चूना

मास्क खरीदी में भी हो रहा भ्रष्टाचार

By: Nakul Sinha

Updated: 18 Apr 2020, 03:41 PM IST

राजनांदगांव / डोंगरगढ़. कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए जहां सरकार व समाजसेवी आगे बढ़कर हर संभव सहयोग प्रदान कर रहे हैं वहीं स्थानीय जनपद पंचायत में इस पर भी भ्रष्टाचार जारी हो गया है। सरकार ने कपड़े के मास्क खरीदने के लिए अधिकतम 10 रूपए की कीमत निर्धारित कर महिला स्व सहायता समूह से मास्क बनवाकर इसे सप्लाई करने के निर्देश सभी जनपद और जिला पंचायतों को दिए हैं। स्थानीय जनपद पंचायत में मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने भी सभी पंचायतों को इस आदेश के तहत 10 रूपए में कपड़े के होममेड मास्क खरीदने के दिशा निर्देश जारी किए किंतु एनआरएलएम शाखा में पदस्थ एडीईओ शाखा प्रभारी द्वारा महिला समूह के नाम पर शासन के नियम को ताक पर रखते हुए मास्क की खरीदी बिक्री के लिए कमीशन खोरी की बात की जा रही है।

जनपद सदस्य ने सीईओ व एसडीओ से की शिकायत
वरिष्ठ जनपद सदस्य रविंद्र अग्रवाल ने इस बातचीत के ऑडियो सहित जनपद सीईओ व एसडीओ को शिकायत की है। उन्होंने अपनी शिकायत में बताया कि होममेड मास्क को अभी इस विपदा के समय आवश्यक वस्तु में रखा गया है और शासन ने इसकी अधिकतम दर 10 निर्धारित की है किंतु जनपद पंचायत की एडीईओ व एनआरएलएम की शाखा प्रभारी गायत्री डेकाटे द्वारा महिला समूह के नाम पर शासन के नियमों को ताक पर रखते हुए पंचायत सचिव से मास्क की खरीदी बिक्री के लिए कमीशनखोरी की बात की जा रही है। इस विपदा की घड़ी में आमजनता व जनप्रतिनिधि राहत शिविरों में जहां अपनी सहभागिता व आर्थिक सहयोग कर शासन प्रशासन को हर संभव मदद कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ शासकीय कर्मचारियों के द्वारा 10 रूपए के मास्क को 12 से 15 रूपए में बेचने का भ्रष्टाचार करने से बाज नहीं आ रहे। इस पर कार्रवाई की मांग करते हुए अग्रवाल ने जिलाधीश को भी इस आशय की शिकायत की है।

२५ रूपए के भाव से बड़ी संख्या में खरीदी मास्क
बताया जाता है कि एक पंचायत में 25 रूपए की दर पर मास्क की बड़ी संख्या में खरीदी भी कर ली है। यह आसानी से समझा जा सकता है कि जहां शासन निर्धारित 10 रूपए में होममेड मास्क महिला समूह से खरीदने के आदेश दे रहा है वहीं पंचायतें अपनी कारगुजारी व कमीशन खोरी से बाज नहीं आ रही और मेडिकल स्टोरों से अधिक दर में मास्क की खरीदी की जा रही है। धड़ल्ले से हो रहे इस कार्य पर लगाम लगना जरूरी है। नगर की एक संस्था के प्रमुख ने मास्क की निर्धारित कीमत 10 रूपए से कम दर में अच्छे कपड़े के उत्तम क्वालिटी के होममेड मास्क को 8 रूपए में देने की पेशकश की है। उन्होंने लागत मूल्य पर ही मास्क सप्लाई करने का मन इसलिए बनाया है ताकि कोविड-19 में वे भी अपना योगदान दे सकें। शासन चाहे तो वे लागत मूल्य पर होममेड मास्क को बड़ी संख्या में उपलब्ध करा सकते हैं।

Nakul Sinha Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned