निर्दलीय का मिला साथ, कांग्रेस से हुआ क्रास, जिला पंचायत की सत्ता में भाजपा करेगी राज ...

भाजपा की गीता साहू अध्यक्ष और विक्रांत सिंह उपाध्यक्ष निर्वाचित

राजनांदगांव. निर्दलीय का साथ मिलने और कांग्रेस से क्रास वोटिंग होने से जिला पंचायत की सत्ता में भाजपा ने कब्जा कर लिया है। जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर भाजपा ने अपनी पार्टी की बागी गीता घासी साहू को मैदान में उतारा और अध्यक्ष पद पर कब्जा कर लिया। उपाध्यक्ष पद पर भाजपा के विक्रांत सिंह निर्वाचित हुए हैं। दोनों पद पर कब्जा जमाने के बाद भाजपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने जमकर जश्न मनाया। जिला पंचायत चुनाव में लचर प्रबंधन के चलते कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा। परिणाम के बाद कांग्रेसी खेमे में मायूसी छाई रही।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के 24 सदस्यीय राजनांदगांव जिला पंचायत में भाजपा के 1१, कांग्रेस के 11 के अलावा भाजपा के एक बागी और एक निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव जीते थे। अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनाने १३ का जादूई आंकड़ा हासिल करने भाजपा और कांग्रेस को 2-2 सदस्य की जरुरत थी। भाजपा अपनी कुशल रणनीति के तहत इकलौते निर्दलीय सदस्य विप्लव साहू को अपने खेमा में रखने सफल रही और उसने आखिरी समय पर अपनी बागी गीता साहू को अध्यक्ष का उम्मीदवार बनाकर अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद पर कब्जा जमा लिया।

अध्यक्ष के लिए कांग्रेस से एक वोट हुआ क्रास

शुक्रवार सुबह 11 बजे से जिला पंचायत के सभागार में अध्यक्ष पद निर्वाचन के लिए प्रक्रिया शुरु हुई। भाजपा की ओर से गीता घासी साहू ने अध्यक्ष पद के लिए अपना नामांकन दाखिल किया। वहीं कांग्रेस से प्रभा साहू ने नामिनेशन जमा किया। फार्म की जांच के बाद मतदान की प्रक्रिया हुई। मतों की गिनती के बाद चौंकाने वाला नजारा सामने आया। भाजपा प्रत्याशी गीता साहू के पक्ष में 14 मत मिले। कांग्रेस की प्रभा साहू को 11 वोट प्राप्त हुआ। इस तरह अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस से 1 वोट क्रास हुआ और भाजपा की गीता साहू ने 3 मतों से जीत दर्ज की।

उपाध्यक्ष के लिए भाजपा को 13 व कांग्रेस को मिले 11 वोट

दोपहर 2 बजे के बाद उपाध्यक्ष के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरु हुई। भाजपा से उपाध्यक्ष के लिए विक्रांत सिंह ने और कांग्रेस से महेन्द्र यादव ने पर्चा दाखिल किया। 4 बजे के आसपास वोटिंग हुई। इसके बाद मतों की गिनती हुई। भाजपा के विक्रांत सिंह के पक्ष में 13 और कांग्रेस के महेन्द्र यादव के पक्ष में 11 मत पड़े। इस तरह भाजपा के विक्रांत सिंह 2 वोट से जीत दर्ज कर उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए। उपाध्यक्ष के लिए कांग्रेस से क्रास वोटिंग नहीं हुई। वहीं निर्दलीय विप्लव साहू के समर्थन से भाजपा ने उपाध्यक्ष पद पर कब्जा जमा लिया।

कांग्रेस में जमकर हुआ बवाल

मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस अपने नव निर्वाचित 11 सदस्यों को जीत के बाद राजधानी रायपुर ले कर गई थी। मतदान के दिन शुक्रवार सुबह सभी सदस्यों को राजनांदगांव लाकर एक होटल में ठहराया गया था। होटल से ही कांग्रेस के सदस्यों को मतदान के लिए लाया गया। अध्यक्ष चुनाव में कांग्रेस से क्रास वोटिंग हुई। इसके बाद सभी सदस्यों को उपाध्यक्ष चुनाव के लिए फिर से होटल में लाया गया। बताया जा रहा है कि होटल में कांग्रेस के सभी विधायक और वरिष्ठ नेता मौजूद थे। इस दौरान क्रास वोटिंग से आहत कांग्रेसी नेताओं में जमकर बवाल मचा। जानकारी के अनुसार कांग्रेस के जिला पंचायत सदस्यों ने उपाध्यक्ष के उम्मीदवार को लेकर भी नाराजगी जताई। ज्यादातर सदस्यों की पसंद अंगेश्वर देशमुख थे।

पर्यवेक्षक बनाए मंत्री चुनाव तक पहुंचे नहीं

जिला पंचायत में अध्यक्ष-उपाध्यक्ष चुनाव को लेकर कांग्रेस ने कृषि मंत्री रविंद्र चौबे को पर्यवेक्षक बनाया था लेकिन चुनाव तक मंत्री राजनांदगांव पहुंचे ही नहीं। पर्यवेक्षक के नहीं पहुंचने से भी कांग्रेस की रणनीति फेल रही। इसकी वजह से भी कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा है।

जिला अध्यक्ष मधुसूदन की रणनीति से जीत

बहुमत से 1 कदम दूर होने के बाद भी भाजपा ने जिला पंचायत की सत्ता में कब्जा जमाया। बताया जा रहा है कि जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनाने में जिला भाजपा अध्यक्ष मधुसूदन यादव की रणनीति बेहतर साबित हुई। मिली जानकारी के अनुसार जिला अध्यक्ष मधुसूदन यादव शुरु से ही इकलौते निर्दलीय सदस्य विप्लव साहू के अपने पक्ष में रखने प्रयास में लगे रहे और अंतत: दोनों पदों पर भाजपा प्रत्याशियों की जीत हुई। इस मामले में कांग्रेस जिला संगठन विफल साबित हुआ और जिला पंचायत में अपना दबदबा कायम नहीं कर सका।

भाजपाइयों ने जमकर मनाया जश्न

जिला पंचायत अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद पर जीत के बाद भाजपा के नेता व कार्यकर्ताओं ने जमकर जश्न मनाया। कार्यकर्ताओं ने नवनिर्वाचित अध्यक्ष गीता साहू और उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह को फूल माला व रंग गुलाल से स्वागत किया। जीत के बाद भाजपा के सभी सदस्यों व नवनिर्वाचित अध्यक्ष -उपाध्यक्ष जिला भाजपा कार्यालय पहुंचे और वहां वरिष्ठ नेताओं का आशीर्वाद लिया।

पहली बार राजनीति में आई और सीधे अध्यक्ष

जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव जीतने वाली गीता साहू पहली बार राजनीति में आई हैं और पहली ही छलांग जिला पंचायत अध्यक्ष के रूप में लगा लिया है। बीए, पीजीडीसीए तक शिक्षित गीता के पति जरूर राजनीति में रहे हैं। इससे पूर्व के कार्यकाल में गीता के पति घासी साहू सरपंच रहे हैं और भाजपा में लंबे समय से सक्रिय हैं। दूसरी ओर जिला पंचायत उपाध्यक्ष बने विक्रांत सिंह खैरागढ़ नगर पंचायत, खैरागढ़ नगर पालिका और खैरागढ़ जनपद अध्यक्ष भी रह चुके हैं। विक्रांत भाजयुमो के बड़े पदों पर भी रहे हैं।

विकास को गति दी जाएगी

राजनांदगांव जिला पंचायत अध्यक्ष गीता घासी साहू ने कहा कि यह जीत भाजपा के विकास की सोच पर मुहर है। जिला पंचायत के माध्यम से लोगों के हित में काम किया जाएगा और विकास के काम को गति दी जाएगी।

जनता के हितों पर काम करना पहली प्राथमिकता

राजनांदगांव जिला पंचायत उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह ने कहा कि जिला पंचायत में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर जीत भाजपा की एकजुटता से ही संभव हुआ। जिले का विकास व जनता के हितो पर काम करना पहली प्राथमिकता रहेगी।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned