scriptIt is interesting in Rajnandgaon that the reason for reducing the area | राजनांदगांव में दिलचस्प है कि खेती का रकबा कम करने की वजह, कृषि विभाग ने किसानों को यूं किया राजी | Patrika News

राजनांदगांव में दिलचस्प है कि खेती का रकबा कम करने की वजह, कृषि विभाग ने किसानों को यूं किया राजी

फसल चक्र में बदलाव, दलहन-तिलहन को बढ़ावा देने के लिए कृषि विभाग तेजी से कवायद कर रहा है। किसानों को समझाइश देने के साथ ही अन्य फसलों के फायदे गिना रहा है। किसान इस बात को समझ भी रहे हैं। शायद यही कारण है कि अब वे अन्य फसलों की ओर आकर्षित होने लगे हैं।

राजनंदगांव

Published: June 01, 2022 09:15:55 pm

आगामी खरीफ सीजन के लिए कृषि विभाग द्वारा फसल रकबे का खाका तैयार किया जा चुका है। इस वर्ष जिले के ३ लाख 72 हजार हेक्टेयर रकबे में फसल लेने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस वर्ष लगभग 36 हजार हेक्टेयर में धान की फसल कम कर उसकी जगह दलहन-तिलहन लेने की तैयारी की गई है। ताकि फसल चक्र में बदलाव हो और जमीन की उर्वरा शक्ति बनी रहे और किसानों को अधिक मुनाफा हो।
कृषि विभाग से मिली जानकारी अनुसार इस खरीफ सीजन (२०२२-२३) में दलहन-तिलहन की फसल को बढ़ावा देने के लिए पिछले साल की तुलना में धान के रकबे को कम कर दिया गया है। लगभग 285000 हेक्टेयर में धान की फसल प्रस्तावित की गई है। इसी तरह 5 हजार हेक्टेयर में मक्का, 7000 हेक्टेयर में कोदो कुटकी, 16 हजार हेक्टेयर में अरहर, 1 हजार हेक्टेयर में मूंग, 10 हजार हेक्टेयर में उड़द, 0.520 हजार हेक्टेयर में कुल्थी, 3 हजार हेक्टेअर तिल, 22 हजार हेक्टेअर सोयाबीन, 0.050 हजार हेक्टेअर राम तिल और 18 हजार हेक्टेयर में अन्य खरीफ फसल लेने का लक्ष्य प्रस्तावित है।
मूंगफली व सूर्यमुखी का रकबा शून्य
जिले में ज्यादातर किसान धान की फसल लेते हैं। धान के लिए यहां की जमीन बेहतर मानी जाती है। खैरागढ़, साल्हेवारा व मानपुर-मोहला क्षेत्र के किसान बड़े रकबे में दलहन-तिलहन की फसल भी लेते हैं। वहीं जिले में ज्वार, मूंगफली और सूर्यमुखी का रकबा शून्य रखा गया है। इन फसलों के लिए मौसम का साथ होना बहुत आवश्यक होता है। मतलब इन फसलों में मौसम आधारित खतरा बहुत ज्यादा होता है।
गौरतलब है कि इस वर्ष मानसून समय से पहले आने का पूर्वानुमान मौसम विभाग ने जारी किया है। हाल-फिलहाल में देश में मानसून के दस्तक देने की जानकारी आई। अनुमान लगाया जा रहा है कि संभवत: 5 से 8 जून तक यहां भी मानसून पहुंचे और झमाझम शुरू हो जाएगा। ऐसे में इस वर्ष खरीफ की बोनी जल्द शुरू होने की संभावना है। इसे लेकर किसानों ने तैयारी भी शुरू कर दी है। खेतों की सफाई से लेकर खाद-बीज का संग्रहण किया जा रहा है।
लगातार एक ही फसल लेने से जमीन की उर्वरा शक्ति हो रही कम
कृषि विशेषज्ञों की माने तो लगातार एक ही फसल लेने से जमीन की उर्वरा शक्ति पर असर पड़ता है। शासन की योजनाओं के चलते किसान धान की फसल पर अधिक जोर दे रहे हैं लेकिन इससे आगे चलकर उन्हें काफी नुकसान हो सकता है। धान की फसल को अत्यधिक पानी की जरूरत पड़ती है। जिले का ज्यादातर कृषि रकबा असिंचित एरिया में आता है। यानी यहां ली जाने वाली फसल केवल बारिश पर ही निर्भर करती है। फसल चक्र अपनाकर किसान न केवल जमीन की उर्वरा शक्ति बरकरार रख सकता है, बल्कि कम सिंचाई सुविधा में भी अच्छी पैदावार कर सकता है। इसलिए शासन फसल चक्र को प्रोत्साहन देने का कार्य कर रही है।
राजनांदगांव में दिलचस्प है कि खेती का रकबा करने की वजह, कृषि विभाग ने किसानों को यूं कि या राजी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Eknath Shinde Property: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से 12 गुना ज्यादा अमीर हैं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जानें किसके पास कितनी संपत्तिपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के आवास में घुसने वाले शख्स ने परिसर को समझ लिया था कोलकाता पुलिस का मुख्यालयबीजेपी नेता कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में लिखा - 'हम तुम्हें जीने नहीं देंगे'हैदराबाद के एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे RCP सिंह तो BJP में शामिल होने की लगने लगी अटकलें, भाजपा ने कही ये बातप्रदेश के भोपाल, इंदौर समेत 11 नगर निगमों में मतदान 6 को, चुनावी शोर थमाकानपुर मेट्रो: टनल बनाने का काम शुरू, देश को समर्पित करने के विषय में मिली ये जानकारीउदयपुर कन्हैया हत्याकांड का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने पर युवक गिरफ्तारवरिष्ठता क्रम सही करने आरक्षकों की याचिका पर विभाग को 21 दिन में निर्णय लेने का आदेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.