संग्रहण केन्द्रों में कोटा फुल, मिलर्स नहीं उठा रहे धान, खरीदी केन्द्रों मे अब भी खुले में पड़ा है 20 लाख क्विंटल धान ...

जिले के सभी 6 संग्रहण केन्द्रों में क्षमता के अनुसार रखा जा चुका है धान

By: Nitin Dongre

Published: 01 Mar 2020, 09:04 AM IST

राजनांदगांव. जिले के संग्रहण केन्द्रों में धान रखने के कोटा पूरा हो गया है। लगभग सभी संग्रहण केन्द्रों में क्षमता के अनुरुप धान परिवहन हो गया है। डीओ कटने के बाद बी मिलर्स धान नहीं उठा रहे हैं। खरीदी केन्द्रों में अब भी करीब 20 लाख क्विंटल धान खुले में पड़ा हुआ है। लगातार मौसम में बदलाव हो रहा है और बारिश भी हो रही है। ऐसे में अधिक बारिश होने की स्थिति में खरीदी केन्द्रों में खुले में पड़े धान के भीगने से शासन को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

सहकारी सोसायटी से मिली जानकारी के अनुसार जिले के लगभग सभी खरीदी केन्द्रों में लाखों क्विंटल धान खुले में पड़ा है। इस साल 67 लाख क्विंटल धान की खरीदी हुई थी। इसमें से 47 लाख क्विंटल धान की ही उठाव हुआ है। करीब 20 लाख क्विंटल धान खरीदी केन्द्रों में बिना कोई सुरक्षा के खुले में रखा हुआ है। ऐसे में उठाव की गति काफी धीमी होने से बारिश होने की स्थिति में धान के भीगने की संभावना बनी हुई है।

31 लाख क्विंटल ही है संग्रहण केन्द्रों में धान रखने की क्षमता

जिले में कलकसा, घोटिया, ठेलकाडीह, बांधाबाजार, बीजाभाठा, मदुराकोही, सिंघोला में 6 जगहों पर ही संग्रहण केन्द्र है। इन संगहण केन्द्रों में धान रखने की क्षमता 31 लाख क्विंटल का ही है। मार्कफेड से मिली जानकारी के अनुसार संग्रहण केन्द्रों में अब तक करीब 29 लाख क्विंटल धान परिवहन किया जा चुका है। ऐसे में इन संग्रहण केन्द्रों में क्षमता पूरा हो गया है और धान रखने जगह नहीं है। वहीं मिलर्स भी धान का उठाव करने में गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं।

77 मिलर्स से हुआ है धान उठाने का करार

मिली जानकारी के अनुसार इस साल धान उठाने जिले के 77 मिलर्स से करार हुआ है। इसमें 62 मिलर्स अरवा और 15 मिलर्स ने उसना के लिए करार किया है। अब तक मिलर्स 22 लाख 20 हजार क्विंटल की ही धान उठाव किए हैं। जबकि 23 लाख क्विंटल का डीओ कट चुका है। बताया जा रहा है कि मिलर्स पिछले 10-12 दिनों से धान उठाव करने गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं। वहीं ट्रांसपोर्टरों द्वारा अब तक करीब 29 लाख क्विंटल धान का उठाव किया गया है। जबकि 31 लाख क्विंटल का टीओ कट चुका है। संग्रहण केन्द्रों में क्षमता फुल होने से ट्रांसपोर्टर भी धान नहीं उठा पा रहे हैं।

उठाव करने निर्देशित किया गया है

डीएमओ सौरभ भारद्वाज ने कहा कि खरीदी केन्द्रों से लगातार धान का उठाव हो रहा है। संग्रहण केन्द्रों में क्षमता के अनुसार धान का परिवहन हो गया है। मिलर्स को जल्द से जल्द धान का उठाव करने निर्देशित किया गया है। करीब 20 लाख क्विंटल धान का उठाव करना शेष है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned