शादीशुदा प्रेमी जोड़ा खुद को पति-पत्नी बताकर ठहरा था लॉज में, अगली सुबह एक ही फंदे पर झूलते मिली दोनों की लाश

डोंगरगढ़ के पहुना लॉज में शादीशुदा प्रेमी युगल ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। युवक मुकेश कुमार भिलाई खुर्सीपार का है, तो वहीं महिला लक्ष्मी देवांगन गंडई की रहने वाली है।

By: Dakshi Sahu

Updated: 03 Jul 2021, 01:46 PM IST

राजनांदगांव. डोंगरगढ़ के पहुना लॉज में शादीशुदा प्रेमी युगल (couple suicide) ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। युवक मुकेश कुमार भिलाई खुर्सीपार का है, तो वहीं महिला लक्ष्मी देवांगन गंडई की रहने वाली है। ये दोनों खुद को पति-पत्नी बताकर लॉज में बुधवार को पहुंचे थे। कमरे से दोनों का आधारकार्ड बरामद हुआ है, जिससे उनकी पहचान हुई है। गुरुवार को दोपहर 1 बजे के आसपास दोनों का शव फंदे पर लटके मिला। लॉज संचालक ने पुलिस को मामले की सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लॉज को सील कर परिजनों को मामले की सूचना दी है। देर शाम तक दोनों के परिजन नहीं पहुंचे थे। डोंगरगढ़ टीआई अलेक्जेंडर किरो ने बताया कि आत्महत्या के कारणों का खुलासा नहीं हुआ है। फिलहाल लॉज को सील कर दिया गया है।

Read more: ससुराल वालों ने किया परेशान तो सलमान खान से मिलने मुुबई पहुंच गई नव विवाहिता, फिर जो हुआ...

दोनों का चल रहा था प्रेम प्रसंग
डोंगरगढ़ के पहुना लॉज में ठहरे महिला-पुरुष बुधवार को पहुंचे और खुद को पति-पत्नी बताकर रूम बुक कराया। वहां गुरुवार 12 बजे तक खुद को डिस्टर्ब नहीं करने की बात कहकर ठहरे हुए थे। गुरुवार को जब 12 बजे के बाद भी वे कमरे से नहीं निकले तो दरवाजा खटखटाया गया, लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिला, उन्हें फोन लगाया गया, लेकिन वे फोन भी रिसीव नहीं किए तब लॉज के कर्मियों ने कमरे के अंदर झांका। जहां दोनों के शव फंदे पर लटके मिले। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने बताया कि महिला-पुरुष दोनों विवाहित थे। विवाह के उपरांत दोनों का प्रेम प्रसंग चल रहा था।

नहीं छोड़ा सुसाइडल नोट
लॉज के कमरे से पुलिस ने दोनों के आधार कार्ड बरामद की है, लेकिन किसी तरह के कोई सुसाइड नोट नहीं मिलने की बात कही है। दोनों की आपस में किस तरह पहचान हुई और इन्होंने किस कारण से खुदकुशी की है। इसका फिलहाल खुलासा नहीं हो पाया है। दोनों के शादीशुदा होने की जानकारी सामने आई है। आधार कार्ड में महिला की जन्मतिथि 1996 है, तो वहीं पुरुष का 1986 दर्ज है।

नहीं होती लॉजों की जांच
धर्मनगरी के नाम से जाने वाले डोंगरगढ़ में अपराधिक घटनाक्रम लगातार बढ़ रही है। यहां गैर कानूनी कार्यों की बाढ़ आ गई है। अपराधिक घटनाक्रम से जुड़े लोगों में पुलिसिया खौफ कम हो गया है। यही कारण है कि यहां आसानी से शराब से लेकर अन्य नशीले पदार्थों की धड़ल्ले से बिक्री हो रही है, तो वहीं बिना आईडी पू्रफ के भी लॉज में लोगों को ठहराया जा रहा है। गैर कानूनी कार्य करने वाले यहां अपनी पहचान छिपाकर आसानी से आसरा ले रहे हैं।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned