कृति कला और साहित्य के क्षेत्र में मीनेश साहू का हुआ सम्मान

भोरमदेव साहित्य सृजन मंच को मिला सम्मान

By: Nakul Sinha

Published: 03 Dec 2019, 11:28 AM IST

राजनांदगांव / गंडई पंडरिया. ग्राम भूरभुसी के निवासी मीनेश साहू को कला एवं साहित्य परिषद् के क्षेत्र में सीपत, जिला- बिलासपुर द्वारा प्रतिवर्ष साहित्य कला और अन्य विधाओं में कर रहे अच्छे कार्यों के लिए छत्तीसगढ़ के अलग-अलग जिलों से साहित्यिक संस्थाओं को चिन्हित कर उन्हें सम्मानित किया जाता है। इस वर्ष साहित्य के प्रति समर्पण छत्तीसगढ़ी साहित्य का प्रसार एवं निरंतर कार्य के लिए जिले के साहित्य संस्था भोरमदेव साहित्य सृजन मंच कबीरधाम को साहित्य वृंद सम्मान प्रदान किया गया।

गोष्ठी का हुआ आयोजन
यह सम्मान छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पूर्व अध्यक्ष व प्रसिद्ध भाषा विद डॉक्टर विनय कुमार पाठक, पंडित सुंदरलाल शर्मा सम्मान से सम्मानित मीर अली मीर और बिलासा साहित्य समिति के प्रमुख सोमनाथ यादव के हाथों प्रदान किया गया। समिति के प्रतिनिधि के रूप में अध्यक्ष मिनेश साहू, सदस्य धर्मेंद्र डहरवाल, रामकुमार साहू, डीपी लहरे, घनश्याम कुर्रे, ओपी दिवाकर, युगल लहरे, हेमसिंग साहू, रिखीराम धुर्वे, पवन साहू, राजकुमार मशखरे, कुंज बिहारी साहू, शेखर दत्त चौहान, संजू ऊके ने संयुक्त रूप से सम्मान प्राप्त किया। संध्या काव्य गोष्ठि का आयोजन किया गया जिसमें समिति की ओर से अध्यक्ष मिनेश साहू, घनश्याम कुर्रे, तथा हेमसिंग साहू ने अपनी प्रस्तुति से समा बांध दिया। उत्कृष्ट काव्य पाठ के लिए घनश्याम कुर्रे को उनकी कृति, नमन हे भारत माटी के लिए कृति सारस्वत सम्मान प्रदान किया गया।

कार्यक्रम में ये रहे उपस्थित
इस संस्था को साहित्य सम्मान मिलने पर समिति के सक्रिय सदस्य सुखदेव सिंह अहिलेश्वर, ज्ञानु मानिकपुरी, घनश्याम कुर्रे, बोधन राम निषाद, देवचरण धुरी, रमेश चौरिया जी, चिंताराम धुर्वे, महेंद्र देवांगन माटी, शशांक यादव, ज्ञान सिंह ठाकुर, घनश्याम प्रसाद सोनी, पारस जंघेल, वर्षा और छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका आरुग चौरा के संपादक ईश्वर लाल साहू आरुग समस्त सदस्यों को छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध साहित्यकारों ने बधाई दी है।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned