क्वारेंटाइन सेंटर में लगातार बढ़ रहे प्रवासी मजदूर, सुविधाएं नहीं मिलने से की स्थिति बदहाल

छुरिया विकासखंड के अधिकांश राहत शिविरों सुविधाओं का अभाव

By: Nakul Sinha

Published: 10 May 2020, 06:12 AM IST

राजनांदगांव / जोंधरा. छुरिया विकासखंड के अधिकांश गांव के स्कूलों में इन दिनों बाहर पलायन से आए ग्रामीण मजदूर प्रतिदिन अधिकांश की संख्या में अपने-अपने गांव पहुंचते जा रहे हैं और उन्हें स्कूलों में ठहराया जा रहा है पर उन स्कूलों में भीषण गर्मी के बावजूद भी इन मजदूरों के लिए कोई सुविधा शासन प्रशासन द्वारा नहीं की गई है। वहां मजदूर अब 28 दिनों के लिए क्वारेंटाइन के रूप में जेल से भी बदतर यातना भोगने मजबूर हैं।

खाना तक नसीब नहीं हो पा रहा
शासन-प्रशासन द्वारा ठहराए गए इन मजदूरों के लिए किसी तरह खाना तक की व्यवस्था नहीं है। मजदूरों के घर वाले प्रतिदिन उनके लिए सुबह-शाम टिफिन वहां पहुंचा रहे हैं और उनसेे रोज ही संपर्क में आ रहे हैं जबकि उन मजदूरों को पहले 14 दिन और 28 दिन किसी भी अन्य ग्रामीणों के संपर्क में नहीं आना चाहिए। बाहर से आए ग्रामीण मजदूरों की संख्या कहीं 20-50 और तो कहीं ७० तक है। छुरिया विकासखंड के आश्रित ग्राम बिजेपार में इन दिनों ७२ ग्रामीण क्वारेंटाइन में है और उन सभी का खाना उनके घर वाले यहां पहुंचा रहे हैं। साथ ही एक तरह से पूरे ग्रामीण खाना देने के बहाने उनसे संपर्क में आते जा रहे हैं। शासन को चाहिए कि मजदूरों को उनकी संख्या के आधार पर राशन की सभी सामग्री प्रदान कर वहीं मजदूरों से ही बनवाए ताकि ग्रामीणों में संक्रमण का खतरा कम हो सके।

कई नवीन सरपंचों का आज पर्यंत नहीं खुला खाता
पंचायत के सरपंच इन दिनों मजदूरों को खाना खिलाने से साफ इंकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि शासन की तरफ से इन मजदूरों को खाना खिलाने के लिए कोई लिखित में दिशा-निर्देश नहीं है। दूसरी तरफ कई नवीन सरपंचों के आज पर्यंत खाते नहीं खोले जा सके हैं। ज्यादातर सरपंचों ने बताया कि सीईओ ने अब तक इन मजदूरों को खाना खिलाने के बारे में लिखित में आदेश जारी नहीं की है।

क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों की उदासीनता
कई जगहों पर जहां ये मजदूर रुके हैं वहां ना कोई टेन्ट सुविधा है न पंखा है बस ये दिन बड़ी बेसब्री के साथ गुजार रहे हैं। पर इनकी स्थितियों को देख अब तक कोई जनप्रतिनिधि सामने नहीं आ पाया है जो यह बोल सके कि ग्रामों में ठहरे मजदूरों की भोजन की व्यवस्था उनकी तरफ से होगी अपितु कई जनप्रतिनिधि अपने जन्मदिन पर जाकर उन्हें फल वितरित कर उनके साथ फोटो जरूर खिंचवा लेते हैं।

Nakul Sinha Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned