नगर निगम राजनांदगांव उद्योगपतियों पर है मेहरबान, शहर में धड़ल्ले से फैला रहे प्रदूर्षण और टैक्स भी नहीं ...

चार साल से टैक्स नहीं पटाने के बाद भी निगम की कार्रवाई शून्य

By: Nitin Dongre

Updated: 03 Jan 2020, 10:07 AM IST

राजनांदगांव. शहर में संचालित कारखानों के रसूखदार उद्योगपति टैक्स जमा नहीं कर रहे हैं। बावजूद निगम प्रशासन द्वारा किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उद्योगों से निकल रहे धुएं से शहर में प्रदूषण भी फैल रहा है। इसके बाद भी किसी तरह की कार्रवाई नहीं करने से निगम के कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो रहे हैं। निगम की अनदेखी की वजह से टैक्स की वसूली नहीं हो रही है और शहर में भी प्रदुर्षण फैल रहा है।

गौरतलब है कि शहर में संचालित लगभग 40 उद्योग व फैक्ट्री के उद्योगपति पिछले तीन चार साल से जलकर, संपत्तिकर, समेकित कर व अन्य टैक्स जमा नहीं कर रहे हैं। उद्योगों का करीब 24 लाख रुपए टैक्स बकाया है। बावजूद इसके किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं होने से ऐसे लोगों के हौसले बुलंद हैं।

कई फैक्ट्री का 2 लाख से अधिक बकाया

निगम के राजस्व विभाग से मिली जानकारी के अनुसार उद्योगपतियों द्वारा लंबे समय से टैक्स जमा नहीं किया जा रहा है। इसमें दर्जनभर उद्योगों का 1 लाख के आस-पास व अधिक का टैक्स बकाया है । बताया जा रहा है कि फैक्ट्री संचालकों द्वारा 2016 से टैक्स जमा नहीं किया गया है। निगम द्वारा दिखावा करते हुए कुछ फैक्ट्री संंचालकों को टैक्स जमा करने नोटिस जारी किया जाता है, लेकिन टैक्स जमा नहींम करने के बाद भी रसूखदार फैक्ट्री संचालकों पर किसी ततरह की कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। निगम के अधिकारी फैक्ट्री संचालकों से डर रहा है। वहीं गरीबों से वार्डों में शिविर लगाकार कड़ाई के साथ टैक्स वसूल किया जा रहा है।

नगर निगम अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी

आयुक्त नगर निगम चंद्रकांत कौशिक ने कहा कि टैक्स जमा नहीं करने वाले उद्योगपतियों की बैठक बुलाई जाएगी और टैक्स जमा करने निर्देशित किया जाएगा। टैक्स जमा नहीं करने वालों पर नगर निगम अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned