एक दिन के नवजात शिशु को मरने के लिए फेंक दिया नाली में, कुदरत का करिश्मा देखिए रातभर कड़कड़ाती ठंड सहकर भी जिंदा है मासूम

स्टेशनपारा की नाली में रविवार सुबह एक दिन के नवजात शिशु मिलने से मोहल्ले में सनसनी फैल गई। 11 डिग्री सेल्सियस तापमान में ठंड के बीच रातभर नाली के बहते पानी में पड़े होने के बाद भी बच्चा जिंदा मिला है।

By: Dakshi Sahu

Updated: 08 Dec 2019, 02:10 PM IST

राजनांदगांव. शहर के स्टेशनपारा की नाली में रविवार सुबह एक दिन के नवजात शिशु मिलने से मोहल्ले में सनसनी फैल गई। लोगों की नजर पड़ी तो उसे नाली से निकालकर सुबह 6 बजे मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दाखिल कराया गया है, जहां उसे एसएनसीयू (गहन चिकित्सा केंद्र) में रखा गया है। बच्चे का वजन तीन किलोग्राम है। डॉक्टरों ने अगला 24 घंटा बच्चे के लिए बेहद नाजुक बताया है। फिलहाल उसकी विशेष देखरेख की जा रही है। (Rajnandgaon news)

ठंड में रातभर पड़ा रहा शिशु
11 डिग्री सेल्सियस तापमान में ठंड के बीच रातभर नाली के बहते पानी में पड़े होने के बाद भी बच्चा जिंदा मिला है। लोग व डॉक्टर इसे कुदरत का करिश्मा मान रहे हैं। यह बच्चा किसका है और किसने इसे वहां फेंका है। पुलिस इस मामले की तफ्तीश में जुटी हुई है। नवजात बालक है, इसके बाद भी नाली में पड़े मिलने के बाद लोग इसे नाजायज संतान मान रहे हैं।

मुंह के बल लेटा था मासूम
मिली जानकारी अनुसार स्टेशनपारा वार्ड 12 गली नंबर 4 में तड़के 5 बजे लोगों ने बच्चे के रोने की आवाज सुनी आसपास देखा तो नाली में नवजात शिशु पड़ा हुआ था। पानी का बहाव चल रहा था। बच्चे का मुंह के बल लेटा था, लोग वीडियो और फोटो बनाने लगे, तभी वहीं की रहने वाली रेखा भट्टा व अर्चना नागदेवे ने बच्चे को उठाया। इसके बाद पुलिस व चाइल्ड लाइन वालों को सूचना दी गई। 6 बजे बच्चे को मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंचाया गया।

इंफेक्शन का खतरा बढ़ा
मेडिकल कॉलेज अस्पताल के शिशु विशेषज्ञ डॉ. विक्रम बैद ने बताया कि बच्चा ठंड में खुला रहने के कारण ठंडा पड़ गया है। गंदा पानी आदि पी गया है। इससे इन्फेक्शन का खतरा है। गहन चिकित्सा केंद्र में विशेष देखरेख में रखकर इलाज किया जा रहा है। अगले 24 घंटे कुछ भी कहना मुश्किल है।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned