प्रभारी मंत्री के कार्यक्रम में सीधे संपर्क में आए थे लोग, स्वास्थ्य विभाग नहीं कर पा रहा पहचान ...

पॉजीटिव आए डाक्टर के संपर्क में आए लोग छिपा रहे जानकारी

By: Nitin Dongre

Published: 27 Jul 2020, 09:07 AM IST

घुमका. घुमका क्षेत्र में कोरोना विस्फोट की जबरदस्त आशंकाओं से घिरे लोगों में अब दहशत बढ़ रहा है। चूंकि सरहदी दुर्ग जिले के खुरसुल गांव में निजी अस्पताल के डॉक्टर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उक्त चिकित्सक के प्राथमिक सम्पर्क में आए मरीज जिनका इलाज हुआ है, वे मुसीबत में आ गए हैं। वहीं कई लोग सम्पर्क को छिपा भी रहे हैं, जिसके चलते कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ गई है।

सूत्रों के अनुसार सलोनी, बिहावबोड़, मनगटा, छोटे टेमरी आदि गांव के सैकड़ो लोगों ने उक्त चिकित्सक से इलाज करवाया है और सीधे संपर्क में आ चुके हैं, परन्तु घुमका स्वास्थ्य विभाग को केवल सलोनी के मात्र 3 लोगों के सम्पर्क का ही पता चला है, जिनको होम क्वारंटाइन करवाया गया है, जो नियमित पालन भी नहीं कर रहे हैं, जिससे खतरा बढ़ गया है। चूंकि पूरा जिला अभी हॉटस्पॉट बन रहा है। ऐसी स्थिति में घुमका क्षेत्र के लिए कोरोना को लेकर मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

सम्मिलित अतिथियों समेत अनगिनत लोगों पर खतरे की आशंका

सूत्रों के अनुसार बीते 20 जुलाई को हरियाली अमावस्या के दिन गोधन योजना के तहत गोबर खरीदने पहुंचे प्रभारी मंत्री अकबर खान के कार्यक्रम में भी कोरोना पीडि़त उक्त डॉक्टर के प्राथमिक सम्पर्क में आए कुछ लोगों और उनके परिजनों के द्वारा मंत्री और अन्य अतिथियों के स्वागत आदि के माध्यम से प्राथमिक सम्पर्क में भी आ चुके हैं और उक्त आयोजन में कई कांग्रेसी नेताओं के अलावा जिला प्रशासन के तमाम आला अधिकारियों की उपस्थिति थी। लिहाजा कोरोना जैसे संक्रमण चेन को लेकर आयोजन में शामिल नेताओं और अधिकारियों कर्मचारियों में खलबली मची हुई है। अगर सम्पर्क में आए लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है, तो सम्मिलित अतिथियों समेत अनगिनत लोगों पर खतरे की आशंका बनी हुई है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned