गार्डन में बिना मास्क के ही बेधड़क घूम रहे लोग, बच्चों पर भी नहीं है सावधानी, नमी पर एक्टिव होता है वायरस ...

सोशल डिस्टेंस का नहीं रख रहे ध्यान, अधिक मात्रा में फैल रही है महामारी

By: Nitin Dongre

Published: 14 Jun 2020, 08:55 AM IST

राजनांदगांव. कोरोना संक्रमण की चैन को तोडऩे के लिए देश भर में पांच चरणों में लॉकडाउन घोषित किया गया था। लॉकडाउन के पांचवे चरण को अनलॉक को चार फेस में बाटा गया है। अनलॉक के दूसरे फेस में जन जीवन को समान्य करने के लिए सभी दुकानों सहित उद्यान और खेल मैदान को छूट दी गई है। ऐसे में लोग बेपहरवाह होकर सुबह सैर सपाटे में बगैर सोशल डिस्टेंस के घूम रहे हैं। लॉकडाउन के सारे नियमों की धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे हैं। लॉकडाउन के पांचवे चरण में अनलॉक फेस-2 में कई तरह के नियमों में राहत दी गई है।

कोरोना संक्रमण के बीच जीने की आदत डालकर धीरे-धीरे लोगों के जीवन को वापस पटरी पर लाने की कोशिश की जा रही है। इतने दिनों के बाद मिली छूट को लेकर लोगों में उत्साह भी देखने को मिल रहा है। कुछ लोग सुबह-सुबह उद्यानों में सैर-सपाटे के लिए निकल रहे हैं। इस दौरान लोग वैश्विक महामारी को नजर अंदाज कर रहे हैं। कोविड-19 के गाइडलाइन को दरकिनार कर बिना मास्क लगाए टहल रहे वहीं सोसल डिस्टेंस की घज्जियां भी उड़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

नहीं कर रहे नियम का पालन

राजनांदगांव शहर के आरके नगर के पार्क में रोजाना सुबह-सुबह हर तरह के लोग बिना मास्क के यहां घूमते नजर आते हैं। बिना सोशल डिस्टेंसिंग के बेधड़क घूम रहे हैं। ऐसे मे कोरोना का सामुदायिक संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।

मॉर्निंग वाक बंद नहीं

घर से बाहर घूमने पर संक्रमित होने या अनजाने में दूसरों को संक्रमित करने की संभावना है। इसके बाद भी लोग सुबह-सुबह मॉर्निंगवॉक के लिए निकल रहे हैं। बारिश का मौसम शुरू हो गया है और लोग लापरवाह होते जा रहे हैं ऐसे में कोरोना वायरस नमी में ज्यादा एक्टिव रहता है। इसके बाद भी मॉर्निंगवाक बंद नहीं हुआ है।

बच्चे पार्कों में घूम रहे

कोरोना का खतरा लो इम्युनिटी वाले जैसे बच्चों को ज्यादा है। फिर भी कुछ लोगों के बच्चे पार्क में झूला-झूलते हुए तो किसी के उछल-कूद करते दिखाई दे रहे हैं। इन पार्कों में आवाजाही बनी रहने से कोराना वायरस के संक्रमण का खतरा भी बढ़ता जा रहा है, फिर भी लोग अनभिज्ञ होते जा रहे हैं और बच्चों पर सावधानी नहीं बरत रहे हैंं।

एक साथ जमा होकर मार रहे गप्पे

कोरोना से बचाव का एक मात्र उपाय सेल्फ आइसोलेशन है। इसके बाद भी कुछ भीड़ में एकत्रित होकर तरह-तरह की बातों को लेकर गप्पे मारते देखे जा सकते हैं। ऐसी गप्पे बाजी उन लोगों के सामने भी की जाती है जो कुछ जानते भी नहीं उसके बाद वे भी सुनने के लिए उत्सुक हो जाते हैं और भीड़ बढ़ती जाती है। कुछ तो खुद भी संक्रमित हो सकते हैं, फिर भी गप्पे बाजी में सक्रिय है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned