पीएचई के श्रमिकों को पांच माह से नहीं मिला वेतन, आर्थिक तंगी, सौंपा ज्ञापन

जल्द वेतन भुगतान नहीं हुआ तो परिवार सहित करेंगे उग्र आंदोलन

By: Govind Sahu

Published: 01 Mar 2020, 08:24 PM IST

राजनांदगांव. पांच माह के वेतन से वंचित जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के श्रमिकों ने अपनी मांगों को लेकर छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा के सचिव बसंत साहू के नेतृत्व में जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है। सचिव साहू ने बताया कि उन्हें कर्मचारी भविष्य निधि जैसे सामाजिक सुरक्षा का लाभ नहीं दिया जा रहा है। बैंक से वेतन भुगतान नहीं किया जाता। श्रमिकों ने जल्द वेतन भुगतान नहीं होने की स्थिति में परिवार सहित आंदोलन करने की बात कही है।


उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा घोषणा किए गए दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को नियमितीकरण की नहीं की जा रही है। श्रम-कानून के तहत अन्य सुविधाएं भी नहीं दी जा रही है। श्रमिकों को वेतन भुगतान नहीं होने के कारण उन्हें आर्थिक तंगी से जूझना पड़ रहा है। बच्चों की स्कूल फीस जमा नहीं हो पा रही।


मार्च में स्कूलों में वार्षिक परीक्षा होने वाला है, महत्वपूर्ण होली का त्योहार भी नजदीक है। ऐसी स्थिति में श्रमिकों को पांच माह का वेतन नहीं मिलने के कारण आर्थिक स्थिति से जूझना पड़ रहा है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी (पीएचई) विभाग के श्रमिकों द्वारा गांव-गंाव में घूम-घूमकर हैंडपंपों की मरम्मत की जाती है। तब गांवों में ग्रामीणों को पानी मिलता है। ऐसे महत्वपूर्ण कार्य करने वालों को वेतन से वंचित रखना दुर्भाग्य पूर्ण है।

श्रमिकों का भाजपा शासन में भी यही स्थिति बनी हुई थी। आज वर्तमान कांग्रेस शासन में भी श्रमिकों को यही स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। श्रमिकों द्वारा पूर्व में संबंधित विभाग एवं प्रशासन को पूर्व में भी समस्याओं के संबंध में आवेदन प्रस्तुत किया गया है।

Govind Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned