दो महीने से लापता बच्ची का पता लगाने में नाकाम हो रहा पुलिस प्रशासन

मां ने पुन: लगाई प्रशासन के उच्च अधिकारियों से गुहार

By: Nakul Sinha

Published: 18 Apr 2020, 03:49 PM IST

राजनांदगांव / डोंगरगढ़. माई की नगरी में नाबालिक 14 वर्षीय बच्ची के गायब होने को दो माह बीत चुके हैं किंतु अपहरण का मामला दर्ज करने के बाद भी पुलिस इसका पता लगाने में अब तक नाकाम रही है। राज्य व केंद्र सरकार जहां बेटियों के लिए नए-नए कानून बना रही है, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ व नारी सशक्तिकरण और सुरक्षा को लेकर अनेकानेक योजनाएं चला रही है किंतु उसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। धरातल पर नारी सशक्तिकरण के कार्यक्रम किस तरह फेल हो रहे हैं इसका जीता जागता उदाहरण माई की नगरी में देखने मिल सकता है।

२० फरवरी को गई थी बच्ची के गायब होने की शिकायत
मां बम्लेश्वरी मंदिर प्रांगण छीरपानी परिसर के समीप रहने वाली 14 वर्ष बेटी का अपहरण गत 20 फरवरी को हुआ था जिसकी शिकायत इस बच्ची के परिजनों ने डोंगरगढ़ थाने सहित महिला थाने में भी की थी। किंतु घटना के लगभग दो महीने बीत जाने के बाद भी पुलिस द्वारा कोई ठोस कार्रवाई देखने नहीं मिल रही। बताया जाता है कि बच्ची को बहला-फुसलाकर कोई युवक अपने साथ ले गया। बच्ची के परिजनों ने आरोपी का नाम भी पुलिस को बताया किंतु महीने बीत जाने के बाद भी पुलिस इस मामले में हाथ पर हाथ धरे बैठी है। यही नहीं बच्ची के परिजनों ने उच्च अधिकारियों से भी न्याय की गुहार लगाई किंतु वहां भी उनकी सुनवाई नहीं हुई।

परिजनों को पुलिस वाले देते हैं रटा रटाया जवाब 'लापता व्यक्ति का मोबाइल बंद हैÓ
इस संबंध में परिजनों ने बताया कि वे जब भी थाने पर जाते हैं तो उन्हें एक रटा रटाया सा जवाब मिलता है कि लापता व्यक्ति का मोबाइल बंद है जब चालू होगा तभी कुछ कर पाएंगे। अब घटना को पुलिस थाने में दर्ज हुए दो माह बीतने को हैं ऐसे में बच्ची के परिजनों ने पुलिस के आला अधिकारियों से गुहार लगाते हुए मामले को संज्ञान में लेने और तत्काल न्याय दिलाने की गुहार लगाई है। बताया जाता है कि बच्ची के परिजनों का छीरपानी के पास छोटा सा होटल है और कोई युवक इस 14 वर्षीय बच्ची को बहला-फुसलाकर साथ ले गया है। पुलिस कार्रवाई से परिजनों में रोष व्याप्त है।

Nakul Sinha Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned