निजी स्कूलों ने शुरू कराई ऑनलाइन पढ़ाई, गरीब पालकों के पास नहीं है स्मार्टफोन इसलिए आरटीई के बच्चे हो रहे वंचित ...

ऑनलाइन शिक्षा का लाभ लेने असमर्थ हैं गरीब बच्चे

By: Nitin Dongre

Updated: 01 Jul 2020, 06:34 AM IST

राजनांदगांव. ज्यादातर निजी स्कूल प्रबंधनों ने ऑनलाइन पढ़ाई शुरू करा दी है, लेकिन कोरोना कहर से जूझ रहे गरीब तबके के लोग जो अपने बच्चों को आरटीई के तहत निजी स्कूलों में दाखिला दिलाए हैं, उनके बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई का लाभ नहीं मिल रहा है। इसके लिए महंगे मोबाइल (स्मार्ट फोन) की जरूरत है, जो गरीब तबके के लोगों के पास मौजूद नहीं है। इतना ही नहीं बच्चों को मंहगे-मंहगे कॉपी-किताब स्वयं खरीदने पड़ रहे है, क्योंकि सरकार द्वारा आरटीई की प्रतिपूर्ति राशि का भुगतान विगत दो सालों से नहीं किया गया है। इस तरह शासन गरीब तबके के बच्चों का मजाक बना रही है। उन्हें निजी स्कूलों में दाखिला दिलाकर सरकार भुला दी है।

छत्तीसगढ़ पैरेट्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष क्रिष्टोफर पॉल ने बताया कि राज्य के 6500 निजी विद्यालयों में लगभग 2 लाख 97 हजार बच्चे शिक्षा के अधिकार के अतर्गत पढ़ रहे हंै। कोरोना महामारी के कारण गरीब तबका ऐसे ही मंदी की मार झेल रहा है और जैसे-तैसे अपना जीवन यापन कर रहा है। प्राइवेट स्कूलों में नर्सरी से लेकर कक्षा बारहवीं तक के बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लासेस दिनांक 15 जून से आरंभ हो चुका है।

शिक्षा से वंचित हो रहे हैं

इस ऑनलाइन क्लासेस से आरटीई के बच्चे प्रभावित हो रहे है और उनके पालक परेशान हो रहे हंै, क्योंकि कई बच्चे जिनके पास स्मार्ट फोन नहीं और जिन बच्चों ने कॉपी-किताब नहीं खरीदा है, वे शिक्षा से वंचित हो रहे हंै। सरकार के पास आरटीई के प्रवेशित बच्चों को कैसे ऑनलाइन पढ़ाई कराई जाए, इस संबंध में कोई ठोस कार्य योजना नहीं है और ना अब तक कोई इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी किया गया है।

अनिवार्य शिक्षा का लाभ मिले

छग पैरेट्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष पॉल ने इस संबध में दिल्ली राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग अध्यक्ष को पत्र लिखकर तत्काल उचित कार्रवाई करने की मांग की है, ताकि प्रदेश में आरटीई के अंतर्गत प्रवेशित बच्चो को भी नि:शुल्क और अनिवार्य शिक्षा का लाभ मिले।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned