उपाध्याय की कार्यप्रणाली पर सवाल डीईओ सोम को कार्यभार देने की मांग ...

कर्फ्यू के बीच अनुसूचित जनजाति शासकीय अधिकारी-कर्मचारी सेवक संघ का आंदोलन की चेतावनी

राजनांदगांव. जिले में दो डीईओ की पदस्थापना पर राज्य सरकार ने अब तक फैसला नहीं लिया है। इससे विभागीय कर्मचारियों की परेशानी बढ़ गई है। हालांकि फिलहाल तो कोरोना वायरस के चलते कफ्र्यू के कारण विभागीय कार्यों पर ब्रेक लगा हुआ है।

सभी अधिकारी-कर्मचारी घर पर हैं, लेकिन अनुसूचित जनजाति शासकीय अधिकारी-कर्मचारी सेवक संघ ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर डीईओ एचआर सोम को स्वतंत्रता पूर्वक जिला शिक्षा अधिकारी का कार्यभार देने की मांग रखी है। 31 तक कर्फ्यू होने के बाद भी संघ द्वारा आंदोलन की चेतावनी समझ से परे है। वहीं इसमें जिला प्रशासन की कोई भूमिका नहीं है। यह काम राज्य सरकार की है। ऐसे में संघ को सीधे मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपना चाहिए था।

शिक्षा अधिकारी के चेंबर में असंवैधानिक ढंग से ताला लगाना गलत

संघ ने उपाध्याय द्वारा पिछले दिनों कार्यालय में ताला जड़ देने के मामले को गलत बताते हुए उन पर जिला प्रशासन द्वारा कार्रवाई की मांग रखी है। संघ के अध्यक्ष संतोष नेताम ने आरोप लगाया है कि शिक्षा अधिकारी के चेंबर में असंवैधानिक ढंग से ताला लगाना गलत है। इससे शासकीय कार्यों में बाधा पहुंचा है। उपाध्याय द्वारा अनाधिकृत रूप से डीईओ कार्यालय में कब्जा कर एक आदिवासी अधिकारी को बल व भेदभाव पूर्वक कुचलने का प्रयास किया गया है। इस पर प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किया गया।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned