बारिश और शीतलहर ने तोड़ा रिकार्ड, स्कूलों में भी अलर्ट और यकायक 2 दिनों के अवकाश का आ गया निर्देश ...

मौसम में बदलाव: गुरुवार को शहर सहित अंचल में बारिश के साथ ओले पड़े

By: Nitin Dongre

Published: 03 Jan 2020, 09:10 AM IST

राजनांदगांव. पश्चिमी विक्षोभ व राजस्थान से लेकर झारखंड तक द्रोणिका बनने के कारण जिला सहित अंचल में गुरुवार दोपहर को आधी घंटे तेज बारिश हुई। कहीं-कहीं ओले भी पड़े। वनांचल में भी यही स्थिति रही। बारिश और उत्तर से चल रही सर्द हवाओं के कारण जिले के तापमान में रिकार्डतोड़ गिरावट दर्ज की गई है। बारिश के बाद शीतलहर को देखते हुए जिला प्रशासन ने सरकारी व निजी स्कूलों में 3 व ४ फरवरी को छुट्टी घोषित किया है।

सुबह से लोग ठिठुरन महसूस कर रहे थे। इसका असर जन-जीवन भी दिखा। लोग ठंड से बचने के लिए दिनभर अलाव का सहारा लेते रहे। बारिश के कारण शहर में सन्नाटा रहा। वहीं मौसम विभाग ने अगले दो दिनों तक आकाश मेघमय रहने और कहीं-कहीं अच्छी बारिश होने की आशंका जताते अलर्ट जारी की है।

सप्ताह भर से उतार-चढ़ाव

गुरुवार को जिले का अधिकतम तापमान २२ डिग्री सेल्सियस रहा, तो वहीं न्यूनतम तापमान ११ डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम में पिछले सप्ताह भर से उतार-चढ़ाव जारी है। हांलाकि आसमान में बादल व शीतलहर की स्थिति ही बनी थी, लेकिन गुरुवार को हुई बारिश ने सालों का रिकार्ड तोड़ दिया है। मौसम विभाग आसमान से बादल छंटने के बाद शीतलहर बढऩे और तापमान में ४ डिग्री सेल्सियस तक गिरावट होने की उम्मीद जताया है।

तैयारी में जुटे किसान

बिन मौसम बरसात का असर मानव स्वास्थ्य से लेकर अन्य जीव जंतु व पर्यावरण और खेती-बाड़ी पर भी पड़ रहा है। दलहन-तिलहन फसल के लिए यह बारिश जहां नुकसानदेय है, तो वहीं रबी में धान की फसल के लिए बेहतर साबित हो सकती है, क्योंकि वर्तमान में धान की फसल लगाने वाले किसान तैयारी में ही जुटे हैं। नर्सरी में धान का पौध तैयार कर रहे हैं।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned