छह किलोमीटर जंगल में पैदल चलकर इस बीहड़ गांव में पहुंचे कलेक्टर, लोगों से कहा विकास आपका अधिकार

कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने शुक्रवार को विकास कार्यों का जायजा लेने जिले के डोंगरगढ़ एवं छुरिया विकासखंड के सुदूर वनांचल के ग्रामों का दौरा किया।

By: Dakshi Sahu

Updated: 10 Mar 2019, 12:18 PM IST

राजनांदगांव. कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने शुक्रवार को विकास कार्यों का जायजा लेने जिले के डोंगरगढ़ एवं छुरिया विकासखंड के सुदूर वनांचल के ग्रामों का दौरा किया। इस दौरान कलेक्टर डोंगरगढ़ विकासखंड के ग्राम बरनालाकला एवं आस-पास के ग्रामीणों द्वारा कोलारघाट जंगल के लोढ़ा नाला में स्टॉप डेम निर्माण की मांग किए जाने पर घने जंगलों के बीचों-बीच दुर्गम रास्ते एवं पगडंडियों से लगभग 6 किमी पैदल चलकर लोढ़ा नाला पहुंचे।

अधिकारी से ली जानकारी
कलेक्टर ने स्थल पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया एवं जल संसाधन विभाग के कार्यपालन अभियंता तथा अन्य अधिकारियों से इस संबंध में आवश्यक जानकारी ली। इस क्षेत्र के ग्रामीणों द्वारा लंबे समय से ग्राम बरनालाकला से 6 किमी दूरी पर स्थित लोढ़ा नाला पर बांध बनाकर व्यर्थ बह रहे पानी को नहर-नाली के माध्यम से पनियाजोब जलाशय में पहुंचाने की मांग की जा रही है।

गांवों का दौरा किया
इसके अलावा कलेक्टर मौर्य ने डोंगरगढ़ विकासखंड के ग्राम बरनालाकला एवं छुरिया विकासखंड के सुदूर वनांचल के ग्राम खोभा में पहुंचकर जमीनी स्तर पर शासकीय योजनाओं की क्रियान्वयन की पड़ताल की। कलेक्टर ने ब्लॉक मुख्यालय एवं वहां के गांवों का दौरा कर सरकारी मिशनरी को यह अहसास करा दिया कि उनकी पैनी नजर पिछड़े आदिवासी क्षेत्रों एवं अंतिम छोर के गांव पर भी रहेगी।

कार्रवाई करने के निर्देश दिए
मौर्य ने ग्रामीणों की मांग पर ग्राम बरनालाकला में नरेगा से खाद गोदाम निर्माण कराने की स्वीकृति भी दी। इस दौरान एसडीएम डोंगरगढ़ प्रेमप्रकाश शर्मा, नवाज खान, मुख्य कार्यपालन अधिकारी छुरिया नवीन भगत, तहसीलदार शिव कंवर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे। इसके अलावा उन्होंने सभी पात्र लोगों को वृद्धावस्था पेंशन स्वीकृत करने एवं वनाधिकार पत्र दिलाने हेतु आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए।

पूछा कारण
कलेक्टर ने ग्राम पंचायत मुख्यालय बरनालाकला में जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों की बैठक लेकर शासकीय योजनाओं की क्रियान्वयन की स्थिति एवं ग्रामीणों की मांगों एवं समस्याओं के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने ग्रामीणों से चर्चा कर पात्र हितग्राहियों का राशन कार्ड बनाने, सामाजिक पेंशन योजना से लाभान्वित होने के लिए शेष रह गए पात्र लोगों के अलावा वनाधिकार पत्र के शेष प्रकरणों की समीक्षा की। उपस्थित पंचायत सचिव एवं अन्य अधिकारी-कर्मचारियों से प्रकरणों के लंबित होने का कारण भी पूछा।

प्राक्कलन प्रस्तुत करने के दिए निर्देश
कलेक्टर मौर्य ने डोंगरगढ़ के समीपस्थ ग्राम बछेराभाठा पहुंचकर ग्राम पंचायत मुख्यालय में उपस्थित ग्रामीणों से चर्चा कर उनकी मांगों एवं समस्याओं के संबंध में जानकारी ली। ग्रामीणों द्वारा बछेराभाठा जलाशय की मरमत की मांग किए जाने पर जल संसाधन विभाग के अनुविभागीय अधिकारी को जांच कर शीघ्र प्राक्कलन प्रस्तुत करने के निर्देश भी दिए।

स्वास्थ्य केंद्र खोभा में पहुंचकर मौके पर उपस्थित सहायक चिकित्सा अधिकारी से गर्भवती माताओं की कुल पंजीयन जन्म, मृत्यु पंजीयन, कुपोषित बच्चों की कुल संख्या एवं टीकाकरण आदि के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने एमसीपी कार्ड का अवलोकन भी किया एवं गर्भवती माताओं को मिलने वाली राशि के संबंध में भी जानकारी ली। मौर्य ग्राम पंचायत मुख्यालय खोभा पहुंचकर राशन कार्ड बनाने के लिए शेष रह गए पात्र हितग्राहियों की संख्या के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने मौके पर उपस्थित अधिकारी-कर्मचारियों से अब तक राशन कार्ड नहीं बनने का कारण भी पूछा।

Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned