अस्पताल के भीतर अब राजनीतिक दल नहीं लगा पाएंगे नारे, होगी सीधी कार्रवाई

अस्पताल के भीतर अब राजनीतिक दल नहीं लगा पाएंगे नारे, होगी सीधी कार्रवाई
#Political parties, Medical college hospital, Government hospital, Will not be able to slogans inside

शासकीय मेडिकल कॉलेज अस्पताल में अपनी मांगों को लेकर आए दिन शोर-शराबा करने वाले राजनीतिक दलों के साथ ही अन्य संगठनों के पदाधिकारियों की अब खैर नहीं।

राजनांदगांव.शासकीय मेडिकल कॉलेज अस्पताल में अपनी मांगों को लेकर आए दिन शोर-शराबा करने वाले राजनीतिक दलों के साथ ही अन्य संगठनों के पदाधिकारियों की अब खैर नहीं। शांति व्यवस्था भंग करने पर जिला प्रशासन और पुलिस की ओर से सख्त कार्रवाई की जाएगी। पत्रिका की खबर के बाद हरकत में आए जिला और पुलिस प्रशासन ने शनिवार को एसपी कार्यालय में राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों की बैठक ली और समझाइश दी कि वे अब जब भी किसी मुद्दे को लेकर अस्पताल पहुंचे तो शांतिपूर्वक तरीके से अपनी बात रखें।

युवा कांग्रेस के प्रदर्शन से डॉक्टर सहम गए
गौरतलब है कि शुक्रवार को युवा कांग्रेस की ओर से अस्पताल अधीक्षक के कक्ष के सामने बैठकर जमकर शोर मचाते हुए प्रदर्शन किया गया। पत्रिका ने प्रमुखता के साथ प्रकाशित कर बताया कि युवा कांग्रेस के प्रदर्शन से डॉक्टर सहम गए हैं और कहने लगे हैं कि हालात ऐसे रहे तो काम नहीं करेंंगे। इस खबर को प्रशासन ने गंभीरता से लिया और राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई।

जिलाधीश एवं एसपी को शिकायत

बैठक में बताया कि अस्पताल के विभिन्न मांगों व समस्याओं के संबंध में सीधे अस्पताल के अंदर प्रवेश कर ऊंची आवाज में नारेबाजी तथा प्रशासन के विरुद्ध भी नारेबाजी करने वालों के खिलाफ जिला अस्पताल के संयुक्त संचालक सहअधीक्षक द्वारा वैधानिक कार्रवाई के लिए जिलाधीश एवं एसपी को शिकायत मिली थी।

एसपी कार्यालय में बैठक

इसके तहत  20 मई को एसपी कार्यालय में बैठक बुलाई गई। बैठक में एडीएम संजय अग्रवाल, एएसपी शशिमोहन  सिंह, डीएसपी अनिल विश्वकर्मा, थाना प्रभारी बसंतपुर याकूब मेमन एवं शहर के राजनैतिक पार्टी से संबंध रखने वाले अशोक पंजवानी, रूबी गरचा, सुनील आहुजा, रविंद्र यादव, चेतन भानुशाली उपस्थित थे।

Read more:आखिर क्यों रमन के मंत्री ने NSUI के राष्ट्रीय महासचिव से भरे दरबार मांगा सबूत

एएसपी ने कहा-सीधे कार्रवाई करेंगे

एएसपी शशिमोहन सिंह ने थाना प्रभारी बसंतपुर को निर्देशित किया कि यदि भविष्य में किसी भी राजनैतिक पार्टी एवं संस्थानों द्वारा अवैध रूप से अस्पताल में प्रवेश कर नारेबाजी, अराजकता एवं अशांति उत्पन्न करते पाया जाता है तो उनके विरुद्ध तत्काल वैधानिक कार्यवाही की जाए।

Read more: वनांचलों के स्वास्थ्य केंद्रों में पांच डॉक्टरों की नियुक्ति, परेशानी हुई कम

राजनीतिक दलों को दी गई समझाइश

अस्पताल जैसे संवेदनशील स्थान मेें गंभीर अवस्था में रोगी उपचार के लिए भर्ती होते हैं। शोर गुल की वजह से परेशानी उठानी पड़ती है। ऐसे स्थान पर इस तरह की नारेबाजी करना, शांति व्यवस्था को भंग करना भर्ती रोगी के साथ मानवीय दृष्टिकोण से उचित नहीं है।

Read more: अस्पताल में इमरजेंसी आ जाए तो इनवर्टर के साथ सोलर पैनल भी काम नहीं करता

बिना सूचना के अस्पताल परिसर में प्रवेश न करें

सख्त निर्देश देते हुए कहा कि यदि उन्हे अस्पताल प्रबंधन से कोई शिकायत है तो सक्षम अधिकारी को नियमानुसार ज्ञापन दिया जाए। बिना ज्ञापन एवं सूचना के अस्पताल परिसर में प्रवेश कर नारेबाजी, प्रदर्शन, चिकित्सकों एवं चिकित्सालय के कर्मचारियों से अभद्र व्यवहार न करें। अस्पताल के अंदर प्रवेश कर अराजकता व अशांति का वातावरण निर्मित न करने समझाइश दी गई।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned