scriptReligious harmony in Rajnandgaon | धार्मिक सद्भाव: इस मजार में हिन्दू खादिम सालों से कर रहे सेवा, हर धर्म के लोग करते हैं इबादत | Patrika News

धार्मिक सद्भाव: इस मजार में हिन्दू खादिम सालों से कर रहे सेवा, हर धर्म के लोग करते हैं इबादत

राजनांदगांव का एक मजार पिछले 35 सालों से सामाजिक सौहाद्र का उदाहरण पेश कर रहा है। इस मजार के मुजावर (खादिम) हिन्दू हैं और उनका नाम है, राजेश तिवारी।

राजनंदगांव

Published: December 06, 2017 12:24:48 pm

राजनांदगांव. अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने की घटना को कल बुधवार को 25 साल हो गए। इन 25 सालों में देश ने कई शहरों और राज्यों में धार्मिक उन्माद का माहौल देखा है, लेकिन करीब ४ सौ सालों से भी ज्यादा समय से लोगों की आस्था का केन्द्र बना राजनांदगांव का एक मजार पिछले 35 सालों से सामाजिक सौहाद्र का उदाहरण पेश कर रहा है। इस मजार के मुजावर (खादिम) हिन्दू हैं और उनका नाम है, राजेश तिवारी।
patrika
राजनांदगांव के वर्तमान गंज चौक के पास स्थित मामा भांजा मजार में तिवारी ३५ सालों से खादिम का काम कर रहे हैं। हर दिन शाम के वक्त यहां आकर मजार में अपनी मुरादें लेकर आने वाले लोगों को इबादत कराने का काम ये कर रहे हंै। उनके अलावा एक और खादिम मोहम्मद कासिम झाड़ोतिया भी यहां खिदमत के लिए हैं।
उनको यहां ४० साल से ज्यादा का समय सेवा करते हो गए हैं। राजेश बताते हैं कि वे जब छोटे थे तो मामा भांजा मजार में पानी भरने का काम करते थे। कुछ सेवा कर देते थे, फिर अचानक मन यहीं रम गया और पिछले कई सालों से यह सिलसिला चल ही रहा है।
मामा भांजा मजार की यह कहानी पता चली है कि करीब ४ सौ साल पहले रजवाड़े के समय एक मामा और उनके भांजे राजा के सिपहसलार थे। उस वक्त मोहला मानपुर रियासत ने राजनांदगांव रियासत पर हमला कर दिया था। अपनी रियासत को बचाने की कोशिश में इसी जगह में मामा और भांजा ने शहादत दी थी। उस वक्त यह जगह वीरान और जंगल जैसा था। इसके बाद एक ही जगह मामा और भांजा का मजार बनाया गया। तब से यह आस्था का केन्द्र बना हुआ है।
 

patrikaसद्भावना होनी चाहिए
अयोध्या में बरसों से चल रहे विवाद पर तिवारी कहते हैं कि ये सब राजनीतिक लोगों की बातें हैं। वे कहते हैं कि वे अपनी राजनीतिक रोटी सेंक रहे हैं और लोगों को बरगला रहे हैं। उनके मुताबिक सभी धर्म का एक ही मूल है और वो है, सद्भावना। सबको सभी धर्मों का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि वे हिन्दू हैं, लेकिन कभी उनके इस मजार में खादिम होने से कोई दिक्कत न उनके परिवार को हुई और न ही मुस्लिम समाज को इससे परेशानी है।
मन्नत मांग लगाते हैं ताला
मजार में सभी धर्म के लोगों की आस्था है। यहां लोग अपनी मन्नत लेकर आते हैं। मन्नत के लिए यहां पर रेलिंग में ताला लगाकर जाते हैं। मन्नत पूरी होने पर ताला खोलने आते हैं। हर दिन यहां दर्जन भर से ज्यादा ताले लगाए जाते हैं। चारों ओर ताले ही ताले नजर आते हैं। खादिम तिवारी बताते हैं कि मन्नत पूरी होने पर लोग ताले खोलते हैं और उसे विसर्जित कर दिया जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतरणवीर सिंह के बेडरूम सीक्रेट आए सामने,दीपिका को नहीं करने देते ये कामइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावधनु, मकर और कुंभ वालों को कब मिलेगी शनि साढ़े साती से मुक्ति, जानिए सही डेटदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

RRB-NTPC Results: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले रेल मंत्री, रेलवे आपकी संपत्ति है, इसको संभालकर रखेंRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रRepublic Day 2022: 'अमृत महोत्सव' के आलोक में सशक्त बने भारतीय गणतंत्रकिरन रिजिजू का बड़ा बयान, अरुणाचल प्रदेश से लापता युवा को जल्द रिहा करेगा चीनUP Assembly Elections 2022 : आरपीएन सिंह-जितिन प्रसाद पर जमकर बरसे अजय लल्लू, कहा ऐशोआराम करने वालों की कांग्रेस को जरूरत नहींIPL 2022: शिखर धवन को खरीद सकती हैं ये 3 टीमें, मिल सकते हैं करोड़ों रुपए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.