बैठक में लिपिक को लगाई फटकार, फर्म व लिपिक से खरीदी के मांगे गए पुख्ता दस्तावेज

बैठक में लिपिक को लगाई फटकार, फर्म व लिपिक से खरीदी के मांगे गए पुख्ता दस्तावेज

Nitin Dongre | Publish: Sep, 05 2018 05:14:19 PM (IST) Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में लिपिक द्वारा दवाई खरीदी में की गई अनियमितता का मामला

राजनांदगांव. मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दवाई खरीदी के नाम पर गड़बड़ी करने के मामले में मंगलवार को को क्रय समिति एवं संबंधित फर्मों के प्रोपराइटर्स की बैठक हुई। बैठक में स्टोर के क्रय तत्कालीन लिपिक द्वारका प्रसाद साहू को जमकर फटकार लगाई गई। बैठक में विभिन्न दवाई फर्म के संचालक भी मौजूद रहे। इसके अलावा क्रय समिति के पदाधिकारी, सदस्य व लिपिक साहू भी माजूद रहे। बैठक मेडिकल कॉलेज के कक्ष क्रमांक २८ में दोपहर 1 बजे से रखी गई थी।

ज्ञात हो कि मेडिकल कॉलेज के तत्कालीन लिपिक साहू द्वारा दवाई के क्रय आदेशों में लापरवाही व अनियमितता बरतते हुए बिना टेंडर व कोटेशन जारी किए ही गैर कानूनी ढंग से दवाई की खरीदी कर ली गई थी। मामले की शिकायत हुई और लिपिक साहू को सस्पेंड कर दिया गया था। इधर दवाई फर्म भुगतान के लिए मेडिकल कॉलेज प्रबंधन पर दबाव बना रहे थे, इसे देखते हुए फर्म, क्रय समिति व मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के बीच बैठक हुई। बैठक में कॉलेज प्रबंधन ने लिपिक को फटकार लगाते हुए कहा कि यह गंभीर लापरवाही की श्रेणी में आता है। इन्हें तो बहाल ही नहीं करना था।

खरीदी नियमों का पालन नहीं हो रहा

ज्ञात हो कि मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को करीब ५-७ लाख रुपए का भुगतान विभिन्न दवाई फर्मों को करना पड़ेगा। क्योंकि दवाई की खरीदी तो हुई है। स्टोर के रजिस्टर में इसकी इंट्री भी हुई है। लेकिन दवाई खरीदी करने का तरीका गलत था। शासकीय नियमों को धता बता दवाई की खरीदी की गई। इस बीच अस्पताल में उच्च अधिकारी व प्रबंधन भी आंख मूंदे बैठा रहा है। कहां से दवाई आ रही है। खरीदी नियमों का पालन हो रहा या नहीं इसका ध्यान नहीं दिया गया।

उच्चाधिकारियों से चर्चा की जाएगी

डॉ. प्रदीप बेक, अधीक्षक मेडिकल कॉलेज अस्पताल ने इस मामले पर कहा कि दवाई खरीदी मामले में हुई अनियमिता को लेकर बैठक हुई है। बैठक में फर्मों के भुगतान को लेकर चर्चा की गई। फर्मों से भी जानकारी ली गई। भुगतान के लिए उच्चाधिकारियों से चर्चा की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned