सरपंच-सचिव ने फर्जी बिल लगाकर ओडीएफ की राशि हजम

सरपंच-सचिव ने फर्जी बिल लगाकर ओडीएफ की राशि हजम
सरपंच-सचिव ने फर्जी बिल लगाकर ओडीएफ की राशि हजम

Nakul Ram Sinha | Updated: 09 Oct 2019, 10:51:32 AM (IST) Rajnandgaon, Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

सूचना के अधिकार के तहत मिले दस्तावेजों में हुआ खुलासा

राजनांदगांव / डोंगरगढ़. समीप ग्राम देवकटटा की सरपंच एवं पूर्व सचिव तथा वर्तमान सचिव द्वारा फर्जी बिल लगाकर कई लाखों रूपये शासकीय राशि हजम करने का मामले में मुख्य कार्यपालन अधिकारी के 26 जुलाई को पत्र क्र.1087 में करारोपण अधिकारी नारदराम एवं सी कुजुर को जांच के आदेश हुए थे तथा अनुविभागीय अधिकारी के 3 सिंतबर को पत्र क्र.2229 में जांचकर्ता अधिकारी मुख्यय कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत अधिकारी, अनुविभागीय अधिकारी ग्रामीण यांत्रिकी सवेा डोंगरगढ़, उपकोषालय अधिकरी की टीम बनाई गई तथा टीम द्वारा 15 दिनों के भीतर जांच करने के निर्देश एसडीएम द्वारा दिए गए।

जांच अधिकारियों ने एसडीएम आदेश की उड़ाई धज्जियां
किंतु एक माह बाद भी जांचकर्ता अधिकारियों ने इसकी जांच आजतक नहीं की जिससे सरपंच नीरा पटेल व सचिव श्रीराम चंद्रवंशी के हौसले बुलंद हो गये है। और उन्होंने सांठगांठ कर पंचो को बिना विश्वास में लिये बैठक व प्रस्ताव के बिना ही ओडीएफ में आयी तीन किस्तो में राशि 9 लाख 48हजार रू को सरपंच सचिव आपस में बंदरबांट कर लिये है। जिसका हिसाब गुरूवार को पंचो मूलचंद पटेल, मंतरीराम, रामादीन, श्यामलाल, रेवतीबाई, सुनीता, कामती, राजेश्वरी, गीताबाई, नंदनी, राम्हीन, सगनी, सुरतिया, शकुन, सुमति, ताराबाई कंवर नंदु वर्मा, शिव कंवर, रामचंद, डिकेश्वर, मुलेंद्र वर्मा, राम शंकर, कैलाश कंवर ने पुछा जिससे हंगामा खडा हो गया और ग्राम सभा स्थगित हो गई।

फर्जी बिल लगाकर किए लाखों पार
ज्ञात हो कि सरपंच द्वारा अपने रिस्तेदारों के नाम फर्जी बिल लगाकर शासकीय राशि सरपंच नीरा पटेल एवं पूर्व सचिव कंचन भालेकर द्वारा गबन किया गया। वहीं इसी पंचायत के रोजगार सहायक मेहराब पिता अकबर खान के नाम से 29 मार्च 2016 से 6 मई 2016 तक लीखापढ़ी के नाम से फर्जी बिल लगाकर 4हजार रू के भुगतान पंचायत से किए गए। चौंकाने वाले तथ्य यह भी है कि सरपंच, सचिव द्वारा राष्टीय पर्व 26 जनवरी को अलगअलग दुकानो से बूंदी व मिठाई के नाम पर फर्जी बिल लगाकर शासकीय राशि डकारी गई।

ग्रामीणों ने कार्रवाई की मांग की
श्रेयांश मिष्ठान भंडार से सौ किलो बूंदी 13 हजार, पांच किलो मिठाई 2 हजार के बिल, विजय उपहार गृह से आठ किलो खारा 16 सौ, पांच किला मीठा 14 सौ कुल 3 हजार तथा थाना चौक स्थित बजरंगी होटल से 9200 रू की 80 किलो बंूदी का बिल लगाकर शासकीय राशि डकारी गई है। तथा 15 अगस्त को गांव के ही खान होटल के नाम से बीस रू प्लेट की दर से 70 प्लेट नास्ता पंचो व ग्रामवासियों के लिए मंगाया गया। जहां एक राष्ट्रीय पर्व की आड़ में तीन अलगअलग मिष्ठान भंडारो से तथा गांव के होटल के नाम से बिल निकालकर राशि सरपंच सचिव द्वारा डकारी गई जो कि इतने रूपयों की मिठाई पुरे गांव को बांटी जाती तो गांव के हर सदस्य मिठाई से अछुता नहीं रहता। किंतु सरपंच सचिव के हाथ साफ करने की दाद देनी पड़ेगी कि अलग-अलग मद की राशि से यह खर्च बताकर बिल लगाए गए। ग्रामीणों ने सरपंच-सचिव के इस फर्जीवाड़े की उच्चस्तरीय जांच कर दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned