राजनांदगांव में डीईओ की कुर्सी के लिए तनातनी बढ़ी

उपाध्याय ने कार्यालय में जड़ दिया ताला, सोम ने कहा-नियम विपरीत, कराऊंगा एफआईआर, शासन को मार्गदर्शन के लिए लिखा गया था पत्र, नहीं आया दिशा-निर्देश, गहराया विवाद

By: Govind Sahu

Published: 19 Mar 2020, 07:29 PM IST

राजनांदगांव. जिले में दो जिला शिक्षा अधिकारियों की पदस्थापना के बाद उपजा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। शासन से भी किसी प्रकार का दिशा-निर्देश नहीं आने के कारण पावर व कुर्सी को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। हद तो तब हो गई जब गुरुवार को डीईओ हेमंत उपाध्याय कार्यालय में ताला जड़कर सर्वे के निकल गए। उधर दूसरे डीईओ एचआर सोम जब कार्यालय पहुंचे तो ऑफिस में ताला देखकर हैरान रह गए। इसके बाद वे बाजू वाले कमरे में बैठकर अपने कार्यों का संपादन किए। उन्होंने मामले में एफआईआर कराने तक की चेतावनी दे डाली। वहीं शिक्षा संबंधी विभागीय कार्य लेकर पहुंच शिक्षक, प्राचार्य व अन्य लोग भटकते रहे।


शासन से दिशा-निर्देश नहीं आने के कारण दोनों ही डीईओ एक ही कार्यालय में बैठ रहे हैं। दोनों ही खुद को डीईओ बता रहे। इससे अधीनस्थ कर्मचारियों में अस्मंजस की स्थिति बन रही और कार्यालयीन काम के निष्पादन में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं अन्य कार्य भी प्रभावित हो रहे हैं।

ज्ञात हो कि शासन द्वारा डीईओ हेमंत उपाध्याय का स्थानांतरण आदेश जारी हुआ और एचआर सोम को यहां नए डीईओ के रूप में भेजा गया। २० फरवरी को एचआर सोम यहां पहुंचे ज्वाइनिंग ली और उपाध्याय को रिलीव कर दिया गया। इसके बाद उपाध्याय ने स्थानांतरण आदेश के विरूद्ध कोर्ट में याचिका लगाई और कोर्ट ने उनके स्थानांतरण को नीति विरूद्ध बताते हुए उस पर अगली सुनवाई तक रोक लगाते हुए उन्हें यथा स्थान पर ज्वाइन करने का आदेश जारी कर दिया। वे फिर लौट आए। उसी कार्यलय में दूसरी चेयर लगाकर बैठने लगे। शिक्षा सविच के मौखिक आदेश के बाद वे चार्ज लेकर डीईओ के प्रमुख कुर्सी पर बैठ गए। इसे देखते हुए शासन के आदेश पर डीईओ का कार्यभार संभाल रहे सोम की नाराजगी बढ़ गई। इस तरह दोनों के बीच तनातनी और तकरार की स्थिति उत्पन्न होने लगी।

कोर्ट ने मेरे स्थानांतरण पर रोक लगाया है। शिक्षा सचिव ने भी कार्यभार संभालने निर्देशित किया है। इसके बाद मैंने कार्यभार संभाला है। मैं नहीं हूं, तो कार्यालय में ताला लगा है, तो किसी को क्या समस्या हो सकती है।
हेमंत उपाध्याय, डीईओ


मुझे काम करने नहीं दिया जा रहा है। दुर्भावना वश मेरी कुर्सी छिन ली गई अब कार्यालय में ताला लगा दिया गया है। जबकि इस संबंध में उनके पास शासन से किसी प्रकार को लिखित में आदेश-निर्देश नहीं है। कार्यालय में ताला लगाना गलत है। उनके खिलाफ एफआईआर कराऊंगा।
एचआर सोम, डीईओ

Govind Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned