माह भर से एडमिशन के लिए घूम रहा छात्र

ई जनदर्शन में हुई प्राचार्य की शिकायत, प्राचार्य ने कहा घर से लाओ फर्नीचर

By: Nakul Sinha

Published: 24 Jul 2018, 11:40 AM IST

राजनांदगांव / खैरागढ़. पांड़ादाह हाई स्कूल के प्राचार्य पर स्कूल में जगह नहीं होने का हवाला देकर एडमिशन नही देने की शिकायत सोमवार को आयोजित होने वाले ई जनदर्शन मे की गई है। स्थानीय जनपद कार्यालय में ई जनदर्शन में पाडादाह इलाके के चांदगढ़ी के छात्र सतीश वर्मा ने माह से एडमिशन के लिए घुमाने और प्रताडि़त करने की शिकायत करते कलक्टर से एडमिशन कराने की मांग की है।

एक माह से प्रवेश के लिए घुमा रहे
शिकायत में छात्र ने बताया कि पाडादाह प्राचार्य द्वारा स्कूल मे जगह नही होने का हवाला देकर माह भर से छात्र को एडमिशन के लिए घुमाया जा रहा है। छात्र ने बताया कि वह गरीब परिवार से है, खैरागढ़ सहित मुढ़ीपार स्कूल मे आने जाने मे असमर्थ है। पाडादाह में बायो विषय में एडमिशन के लिए पिछले माह भर से घूम रहा है लेकिन प्राचार्य द्वारा हर बार स्कूल में जगह नही होने का हवाला देकर एडमिशन नही दिया जा रहा है।

प्राचार्य नहीं माने बीईओ का निर्देश
शिकायत करते छात्र ने कहा कि स्कूल में जगह नही होने पर प्राचार्य घर से बेंच और फर्नीचर लाकर क्लास रूम के बाहर बैठने का हवाला दे रहे हैं। पीडि़त छात्र ने बताया कि शिकायत के बाद बीईओ द्वारा डीईओ के निर्देश पर छात्र को एडमिशन देने का निर्देश दिया गया तथा छात्र को पालक के साथ स्कूल जाने कहा गया। लेकिन स्कूल पहुंचने के दौरान प्राचार्य ने एक बार फिर बीईओ का निर्देश नही मानने का हवाला देकर बड़े अधिकारी से लिखवाकर लाने कह दिया।

दिए थे निर्देश
ई जनदर्शन मे शिकायत होने के दौरान जिला शिक्षा अधिकारी एसके भरतद्वाज ने बीईओ को छात्र का एडमिशन तत्काल कराने के निर्देश दिए थे। माह भर से भटक रहे छात्र को इसके बाद भी एडमिशन नही मिला। बताया गया कि प्राचार्य ने इसके पहले भी माह भर तक छात्र को स्कूल मे जगह नही होने का हवाला देकर पाडादाह से बाहर पढऩे का फरमान सुनाया गया है।

जानकारी नहीं है
बीईओ खैरागढ़, महेश भुआर्य ने कहा कि ई जनदर्शन में शिकायत के बाद डीईओ ने प्राचार्य को त्वरित कार्यवाही करने कहा था। शिकायत प्रति की कापी में निर्देश लिखकर छात्र को पाडादाह स्कूल भेजा गया था। छात्र को एडमिशन नही मिलने की जानकारी नही है। पता करवाकर सीधे जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र भेज देंगे।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned