दांत एक्सरे मशीन दो महीने से खराब, नहीं हो पा रहा इलाज और बढ़ती जा रही मरीजों की संख्या ...

निजी अस्पतालों में योजना के तहत दांत का इलाज बंद

By: Nitin Dongre

Published: 27 Nov 2019, 08:54 AM IST

राजनांदगांव. निजी अस्पतालों में आयुष्मान भारत व मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत दांत के इलाज पर प्रतिबंध लगने के बाद शासकीय मेडिकल कॉलेज अस्पताल में रोजाना ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है। यहां दांत के इलाज के लिए आधुनिक मशीन, डाक्टर व स्टाफ मौजूद होने के बाद भी एक्सरे मशीन में खराबी की वजह से पूरा इलाज नहीं हो पा रहा है। ऐसे में दांत के मरीजों को मायूष होकर लौटना पड़ रहा है। हैरत की बात है प्रबंधन इससे अनजान है।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दो महीने से दंत की एक्सरे मशीन खराब पड़ी हुई है। मिली जानकारी अनुसार इन दिनों दंत विभाग में ओपीडी मरीजों की संख्या बढ़ी हुई है। रोजाना करीब ५० से अधिक मरीज पहुंच रहे हैं। इनमें से करीब १२-१५ मरीजों को जांच के बाद एक्सरे कराने सजेशन दिया जा रहा है, लेकिन यहां यह सुविधा नहीं मिल पा रही है। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दंत के एक्सरे मशीन खराब होने की स्थिति में मरीजों को बाहर महंगे दाम चुकाकर निजी सेंटर में एक्सरे कराने पड़ रहे हैं। कुछ तो निजी डाक्टर के पास ही पहुंच रहे हैं। इस ओर प्रबंधन को ध्यान देने की जरूरत है।

एक्सरे मशीन में बार-बार आ रही खराबी

मिली जानकारी अनुसार मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सीजीएमएससी से दंत के एक्सरे मशीन की सप्लाई हुई है। मशीन में आए दिन खराबी की शिकायत रहती है। रायपुर से इंजीनियर सुधार के लिए पहुंचते हैं, लेकिन कुछ दिन बाद भी खराब हो जाती है। ऐसे में मशीन की क्वालिटी पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं, या फिर इंजीनियर मशीन की खराबी को पकड़ नहीं पा रहे।

सर्वर में परेशानी, पर्ची के लिए लंबी लाइन

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इंटरनेट सर्वर डाऊन होने के कारण लोगों को ओपीडी पर्ची लेने में घंटों लग रहा है। यह परेशानी भी अस्पताल में आए दिन बनी रहती है। यहां इंटरनेट और मोबाइल नेटवर्क की दिक्कत रहती है।

फिर वेतन में देरी, परेशानी

अस्पताल में मेटास कंपनी के तहत रखे गए सुरक्षागार्ड व सफाई कर्मचारियों को फिर पिछले दो महीने से वेतन नहीं मिला है। ऐसे ३०० कर्मचारी हैं, जो यहां सेवा दे रहे हैं, लेकिन नियमित वेतन भुगतान नहीं होने के कारण उन्हें आर्थिक परेशानियों से जूझना पड़ रहा है।

जानकारी नहीं है

मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अधीक्षक डॉ. प्रदीप बेक ने कहा कि एक्स-रे मशीन में खराबी की जानकारी नहीं है। दिखवा लेता हूं। यदि खराबी आई होगी तो सुधार कराई जाएगी। ताकि मरीजों को दिक्कत न हो।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned