सरकारी स्कूल के बच्चों की पुस्तक निजी पेपर मिल में बेचा, पाठ्य पुस्तक निगम की डिपो प्रभारी सस्पेंड

सरकारी स्कूलों में बच्चों को बांटने आई किताबों के निजी पेपर मिल में कबाड़ में मिलने के मामले में पाठ्य पुस्तक निगम की डिपो प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है।

By: Dakshi Sahu

Published: 25 Feb 2021, 11:15 AM IST

राजनांदगांव. सरकारी स्कूलों में बच्चों को बांटने आई किताबों के निजी पेपर मिल में कबाड़ में मिलने के मामले में पाठ्य पुस्तक निगम की डिपो प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है। निगम के अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि इस मामले में जांच दल का गठन किया गया है। इधर इस मामले में पुलिस ने मिल मालिक को नोटिस जारी कर सात दिनों में हुई खरीदी की जानकारी मांगी है। राजनांदगांव जिले के डोंगरगांव के बरसनटोला स्थित धनलक्ष्मी पेपर मिल में सरकारी पुस्तकों के कबाड़ में मिलने के मामले में पाठ्य पुस्तक निगम ने डिपो प्रभारी यशोधरा सरोटे को तत्काल सस्पेंड कर दिया है। जांच दल की रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। पत्रिका से बात करते हुए त्रिवेदी ने कहा कि जांच में तथ्य सामने आने के बाद डिपो प्रभारी के खिलाफ और भी कडी़ कार्रवाई की जाएगी।

Read more: छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम: बच्चों को बांटने वाली पुस्तकों को कबाड़ और पेपर मिल में बेचा, शिक्षा विभाग में हड़कंप ....

मौके पर करेगी जांच
धनलक्ष्मी पेपर मिल में दो दिन पहले 21 फरवरी को भारी मात्रा में सरकारी पुस्तक मिलने के मामले में पापुनि अध्यक्ष त्रिवेदी ने घटना की जांच के लिए एक दल को मौके लिए भेजा है। धनलक्ष्मी पेपर मिल में करीब 200 नग अलग-अलग कक्षाओं की पुस्तकें मिली हैं। बताया जा रहा है कि मिल संचालक द्वारा कंटेनर में भारी मात्रा में बाहर से कबाड़ की खरीदी की गई है। जिसमें यह पुस्तकें मिली है।

की इस तरह की गड़बड़ी
निगम अध्यक्ष त्रिवेदी के अनुसार राज्य सरकार ने दिसम्बर के बाद से किताबें बांटने का कोई आदेश नहीं दिया था लेकिन इसके बाद भी डिपो प्रभारी यशोधरा सरोटे ने फरवरी महीने में किताबों के लिए चालान काटा। उन्होंने कहा कि डिपो से किताबें संकुल में भेजने के लिए ही चालान काटा जा सकता है लेकिन डिपो प्रभारी ने इसमें भी गड़बड़ी की।

पुलिस जांच भी जारी
सरकारी पुस्तकों की एक बड़ी खेप कबाड़ में मिली है जिसमें 2017-18 के अलावा 2020-21 की नई पुस्तकें बरामद की गई है। डोंगरगांव थाना प्रभारी केपी मरकाम ने बताया कि धारा 102 के तहत पुस्तकों की जब्ती कर मामले में कार्रवाई की जा रही है।

यह है पूरा मामला
धनलक्ष्मी पेपर मिल में करीब 200 नग अलग-अलग कक्षाओं की पुस्तकें मिली हैं। बताया जा रहा है कि मिल संचालक द्वारा कंटेनर में भारी मात्रा में बाहर से कबाड़ की खरीदी की गई है। जिसमें यह पुस्तकें मिली है।

सात दिन में मांगी जानकारी
डोंगरगांव थाना प्रभारी मरकाम का कहना है कि पुस्तकों के संबंध में जानकारी ली जा रही है। उन्होंने बताया कि धनलक्ष्मी पेपर मिल के संचालक विनोद लोहिया को नोटिस जारी कर 14 से 21 फरवरी तक की गई सारी खरीदी का रिकार्ड 7 दिनों के भीतर देने कहा है। उन्होंने कहा कि जानकारी मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। शैलेष नितिन त्रिवेदी, अध्यक्ष पाठ्य पुस्तक निगम छत्तीसगढ़ ने बताया कि पाठ्य पुस्तक निगम शासन की गाइडलाइन के आधार पर काम करता है। प्रथम दृष्टया यह मामला गंभीर लापरवाही का लगा, इसलिए डिपो प्रभारी को निलंबित कर जांच दल गठित कर दिया है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned