शहर अध्यक्ष के रवैये को लेकर नेताओं में दिखी जमकर नाराजगी

शहर अध्यक्ष के रवैये को लेकर नेताओं में दिखी जमकर नाराजगी

Nitin Dongre | Publish: Sep, 04 2018 03:50:24 PM (IST) Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

कांग्रेस की केन्द्रीय स्क्रीनिंग कमेटी कर रही रायशुमारी

राजनांदगांव. इस साल के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार चयन में कांग्रेस के पसीने छूटने लगे हैं। यहां लगातार दूसरे दिन कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी ने दावेदारों की नब्ज टटोली। पहले दिन जिले की पांच विधानसभा सीटोंं के लिए जहां शांतिपूर्ण तरीके से दावेदारों ने अपनी बात रखी, वहीं सोमवार को राजनांदगांव विधानसभा सीट के लिए जमकर बहसबाजी की स्थिति बनी। खासकर शहर अध्यक्ष के रवैये को लेकर दावेदारों और कांग्रेस संगठन के नेताओं में गुस्सा नजर आया। स्क्रीनिंग कमेटी से इसकी शिकायत भी हुई है।

सर्किट हाउस में छग प्रभारी डॉ. चंदन यादव व स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य रोहित चौधरी ने सोमवार को सुबह से राजनांदगांव विधानसभा सीट के लिए दावेदारों और संगठन के नेताओं से रायशुमारी शुरू की। दोपहर करीब ढाई बजे तक दोनों पदाधिकारियों ने लोगों से मुलाकात की। टिकट के लिए अपनी दावेदारी पेश करने वाले ३३ लोगों में से अधिकतर ने अपनी बात रखी। कई लोग अपने साथ अपने किए कामों की सूची और बुकलेट लेकर आए थे। कमेटी के सदस्यों ने उसे देखा लेकिन अपने साथ नहीं ले गए।

होता रहा विवाद

स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य से दावेदारों और संगठन के नेताओं को मिलने की सूची को लेकर विवाद होता रहा। कांग्रेस नेताओं ने शिकायत की कि शहर कांग्रेस अध्यक्ष ने कई नेताओं के नाम सूची से गायब कर दिए और उन नेताओं को कमेटी के सामने अपनी बात रखने का मौका नहीं दिया गया। शहर कांग्रेस कार्यकारिणी सदस्य रूबी गरचा को मिलने ही नहीं दिया गया। इसी तरह नगरीय निकाय प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अशोक फडऩवीस को भी अध्यक्ष ने मिलने नहीं दिया। पूर्व पदाधिकारी रसीद खान सहित कुछ अन्य लोगों को भी मिलने नहीं दिया गया।

सुनाई खरी-खोटी

फडऩवीस ने पत्रिका को बताया कि शहर अध्यक्ष ने उनकी नियुक्ति को फर्जी कहकर उन्हें करीब ढाई घंटे बिठाए रखा लेकिन वे चुप रहे। बाद में जब सामान्य लोगों की तरह उन्होंने कमेटी के सदस्य से मुलाकात की तो इस दौरान इसकी शिकायत की और अध्यक्ष को जमकर खरीखोटी सुनाई।

रहा इस तरह का भी नजारा

विधानसभा क्षेत्र की शासन की विभिन्न गतिविधियों में हुए गंभीर भ्रष्ट्राचार के अपने उठाए मुद्दों की करीब ४ सौ पेज की किताब तैयार कराकर पहुंचे हेमंत ओस्तवाल ने कमेटी से मुलाकात की। ओस्तवाल की किताब को लेकर कांग्र्रेसियों में चर्चा का माहौल रहा।

Ad Block is Banned