दिनभर रूक-रूककर होती रही बारिश, ठिठुरन ने बढ़ाई लोगों की परेशानी

बारिश का व्यापक असर, अस्त व्यस्त हुआ जनजीवन

By: Nakul Sinha

Published: 03 Jan 2020, 11:04 AM IST

राजनांदगांव / खैरागढ़. मौसम में अचानक आए बदलाव के कारण शहर सहित इलाके में बीते दो दिनों से ठंड के साथ रूक-रूक हो रही बारिश ने परेशानी बढ़ा दी है। गुरूवार को मौसम में परिवर्तन होने से दिनभर बूदांबादी के साथ बदली छाई रही। जिसके चलते लोगों को दिनभर गर्म कपड़ों का सहारा लेना पड़ा। मौसम में आए बदलाव का मुख्य कारण उत्तर भारत में बर्फबारी को बताया जा रहा है। तो वहीं शहर सहित इलाके में गुरूवार को सुबह से रूक रूककर हो रही बारिश ने लोगों को आफत में डाल दिया। बारिश के चलते कपकपा देने वाली ठंड का अहसास होने लगा। बारिश के साथ-साथ कड़ाके की ठंड पडऩे से लोगों की दिनचर्या में काफी परिवर्तन आया। लोगों को गर्म कपड़ों के साथ बरसाती कपड़ों का उपयोग भी करना पड़ा। गुरूवार को दिनभर चली बारिश रात तक जारी रही। जिसके कारण आवाजाही सहित शहर मे चहल पहल कम रही। मौसम में परिवर्तन के चलते दिन और रात में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। अचानक मौसम बदलने से लोग दिन और रात में गर्म कपड़ों का उपयोग कर रहे है।

दिनभर सड़के रही सूनी
दिनभर बारिश का सीधा असर शहर में दिखा। शहर की सड़कों पर बारिश के पानी के नही निकलने से सड़क ही तालाब बन गए। वहीं दिनभर लोगों की आवाजाही भी काफी कम रही। शहर आने वाले लोगों की संख्या भी अपेक्षाकृत सप्ताह का पहला दिन होने के बाद भी बारिश के कारण कम रहा। कार्यालयों में आवाजाही कम रही, अधिकारी-कर्मचारी समेत कर्मी भी बारिश के कारण कार्यालयों मे ही दूबके रहे। अन्य मार्गो के साथ मुख्य मार्ग भी बारिश के कारण लोगों को परेशानी बनी रही।

बदला मौसम तो पड़ी मार
दो दिन से शहर सहित इलाकें में बेमौसम बारिश के कारण आम जनजीवन अस्त व्यस्त हुआ ही इसका खासा असर आम लोगों की दिनचर्या पर भी पड़ा। धान खरीदी की जारी प्रक्रिया गुरूवार को बारिश के कारण पूरी तरह बाधित रही। समितियों में धान लेकर बेचने पहुंचे किसानों को बारिश से धान को बचाने मशक्कत करनी पड़ी। खेतों में फसलों को इस बारिश से नुकसान की आशंका है। चना सहित अरहर में बारिश के बाद दिक्कते बढ़ेंंगी तो लोकल बाड़ी से निकल रही देशी सब्जियों को भी बारिश से नुकसान हुआ है। बारिश के कारण आवाजाही प्रभावित हुई। कार्यालयों में गिनती के लोग पहुंचे। बस स्टैंड सहित आवाजाही वाले प्रमुख इलाकों में लोगों की उपस्थिति काफी कम रही। जगह-जगह अलाव का सहारा लेकर ठंड और बारिश से बचने की कोशिशें चलती रही।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned