रात होते ही दहशत में जी रहे नगर के ग्रामीण, रोजाना बत्ती गुल होने की वजह से बना रहता है डर ...

अंधेरा होते देख घरों में घुस जाते हैं खतरनाक जीव, 20 गांवों में दिन प्रतिदिन 4-5 घंटे नहीं रहती लाइन

By: Nitin Dongre

Published: 17 Jun 2020, 10:01 AM IST

गंडई पंडरिया. बिजली की लगातार आंख मिचौली से ग्रामीण बेहद परेशान है। उमस भरी गर्मी से लोग परेशान हो रहे हैं, उधर बजली की आंख मिचौली व कई घंटों तक लाइट बंद होने से लोगों का हाल बेहाल है। नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों लोगों को रोजाना इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। दिन में कई बार बिजली गुल के चलते लोगों को काफी दिक्कते उठानी पड़ रही है। नगर मे तो कुछ राहत भी है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में तो हालात कहीं कही बद से बत्तर है। यहां कब बिजली गुल हो जाए और कितने देर बाद आएगी इसमें कोई निश्चतता नहीं रहती है।

उल्लेखनीय है कि गंडई क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ठंडार, रैमडवा, खोंघा, जगमड़वा, गर्रा, मानिकचौरी, जंगलपुर, पेंडरवानी लालपुर भूरभूसी सहित लगभग 20 गांवो में दिन प्रतिदिन शाम 4 से 5 घंटा लाइन गुल के चलते क्षेत्रवासी काफी आक्रोश हैं। रोजाना बिजली बंद के कारण रात्रि में अनेक प्रकार के कीट सर्प के चलते क्षेत्रवासी काफी परेशान है। ग्रामीण क्षेत्र के महिलाओ से चर्चा करने पर महिलाओं ने बताया की शाम के समय बिजली चले जाने से भोजन बनाने में काफी परेशानी होती है।

बिजली की कटौती से ग्रामीणों मे आक्रोश दिखा

इस समस्या के बारे में क्षेत्र के विद्युत मंडल को सूचित किया जा चुका है किंतु अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है और न ही इस पर सुधार किया गया यह समस्या लगभग 1 हफ्ते से आ रही है। ऐसे में छत्तीसगढ़ की सरकार की कथन को झूठ साबित कर रहा है जहां एक ओर राज्य सरकार बिजली बिल हाफ की वाहवाही लूट रही है वहीं दूसरी ओर सीधे बिजली ही हाफ किया जा रहा है। बिजली की कटौती से ग्रामीणों मे आक्रोश दिखा। विद्युत की नियमित आपूर्ति को लेकर बिजली विभाग ने कई आश्वासन दे रखे हैं। बिना लोड शेडिंग व अबाध आपूर्ति के लिए कई प्रयास किए गए, यूनिटों में वृद्घि की गई और विद्युत व्यवस्था को सुदृढ़ भी बनाया गया।

ग्रामीणों में बढ़ रहा है रोष

दिन में कई बार गुल होने वाली बिजली ने गांव की जनता की नाक में दम कर दिया है। लगातार बाधित हो रही बिजली से ग्रामवासियों में रोष का वातावरण बना हुआ है। बिना किसी बड़े कारण के सतत खंडित हो रही बिजली का दंश आम नागरिकों को झेलना पड़ रहा है। सबसे बुरा हाल बुजुर्गों का है, उनका कहना है कि जैसे विभाग बार-बार बिजली गुल करके उन्हें परेशान करना चाहता है। बारिश के मौसम में आम जनता पहले से ही परेशान है। लोग अब अचानक बिजली गुल हो जाने से बेचैन हो उठते हैं। सारी रात अंधेरे में गुजरने को मजबूर है घर में सांप, बिच्छू और जहरीले कीट से जान का खतरा लगातार बना हुआ है। महिलाओं और बच्चों को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

सुधारने में लगता है समय

गंडई सबस्टेशन के जेई नरेश कुमार नेताम ने कहा कि बारिश होने से इंसुलेटर बार-बार उड़ जाता है जिसे सुधारने मे समय लगता है। इस वजह से दिक्कतें हो सकती है। प्रयास जारी है।

Nitin Dongre Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned